जबलपुर में बिशप के निवास पर छापे के दौरान 01 करोड़ 65 लाख रुपए की नगदी पर शिवराज ने दिए जांच के आदेश देखिए - Jai Bharat Express

Breaking

जबलपुर में बिशप के निवास पर छापे के दौरान 01 करोड़ 65 लाख रुपए की नगदी पर शिवराज ने दिए जांच के आदेश देखिए

धर्मांतरण हो या गैरकानूनी गतिविधियां, यह धर्म के नाम पर किसी भी कीमत पर नहीं करने दी जाएगा बोले शिवराज।




भोपाल | मध्यप्रदेश के जबलपुर में बिशप के निवास पर छापे के दौरान 01 करोड़ 65 लाख रुपए की नगदी, विदेशी मुद्रा और अन्य संदेहास्पद सामग्री मिलने के बाद राज्य सरकार ने आज इस मामले की जांच के आदेश देते हुए कहा है कि कहीं इस धन का उपयोग धर्मांतरण और अन्य गैरकानूनी कामों में तो नहीं किया गया।



मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट कर लिखा की अनियमितताओं की शिकायतों के आधार पर 8 सितंबर को EOW ने जबलपुर स्थित बोर्ड ऑफ एजुकेशन चर्च ऑफ नार्थ इंडिया के चेयरमैन बिशप के निवास पर छापा मारा। यह देखकर आंखें फटी रह गईं कि छापे में ट्रस्ट की संस्थाओं की लीज रिन्यूअल में धोखाधड़ी, टैक्स ना चुकाया जाना, 17 संपत्तियों के दस्तावेज, 48 बैंक खाते, 1.65 करोड़ नगद, 18342 यूएस डॉलर व 118 पाउंड, 8 चार पहिया वाहन बरामद हुए हैं। बड़े स्तर पर गड़बड़ियां और धोखाधड़ी सामने आई हैं।


सीएम शिवराज ने कहा कि, इसलिए इस पूरे छापामारी में प्राप्त दस्तावेजों के आधार पर राज्य शासन ने तय किया है कि जो धन प्राप्त हुआ है, उसका उपयोग कहीं इस चर्च ऑफ नॉर्थ इंडिया के माध्यम से धर्मांतरण व अन्य गैरकानूनी कामों में तो नहीं किया जा रहा था, इसकी जांच EOW करेगा। जिला प्रशासन की अपनी भूमिका होगी। भूमि लीज पर लेने की शर्तें निर्धारित हैं। जमीन शैक्षणिक उद्देश्य, चिकित्सा संबंधित काम या धार्मिक स्थलों के लिए दी जाती है। मेरे पास प्रदेशभर से ऐसी कई शिकायतें आ रही है कि जिस उद्देश्य के लिए जमीन आवंटित की गई थी, उसके बजाय कई स्थानों पर इसका व्यावसायिक या अन्य उपयोग हो रहा है।


सिलसिलेवार ट्वीट में सीएम शिवराज ने कहा कि, इसको राज्य शासन गंभीरता से ले रही है इसलिए इसकी जांच भी पूरे प्रदेश में होगी कि जिस उद्देश्य के लिए जमीन दी गई थी, उसके अलावा दूसरे उद्देश्यों के लिए पूर्ति के लिए इस जमीन का उपयोग कैसे किया गया? कई ऐसी शिकायतें भी मिली है जिसमें ट्रस्ट की संस्थाओं के लीज संबंधी प्रकरण में धोखाधड़ी करके टैक्स नहीं चुकाया गया है, या नाम परिवर्तित करके दुरुपयोग हो रहा है, या स्टैंप ड्यूटी या लीज के नवीनीकरण में धांधली की शिकायतें आई हैं।