धोखाधड़ी करने वाला चिटफंड कम्पनी का संचालक मनीष कनौजिया पुलिस गिरफ्त में - Jai Bharat Express

Breaking

धोखाधड़ी करने वाला चिटफंड कम्पनी का संचालक मनीष कनौजिया पुलिस गिरफ्त में

 विधवा पेंशन, बेरोजगार पेंशन, वृद्धा अवस्था पेंशन, विकलांग पेंशन, बिजली बिल स्कीम, रसोई गैस सब्सिडी के नाम पर आमजनों से 610 रूपये लेकर चैन सिस्टम द्वारा और लोगों को जोड़ने पर उन्हें हर माह 500 रूपये का लालच देकर धोखाधड़ी करने वाला चिटफंड कम्पनी का संचालक मनीष कनौजिया पुलिस गिरफ्त में


 

जबलपुर | थाना लार्डगंज पुलिस के द्वारा एक चिटफंड कम्पनी के संचालक को गिरफ्तार किया गया है।

                 थाना प्रभारी लार्डगंज मधुर पटेरिया ने बताया कि दिनांक 8-2-21 को श्रीमति पारूल तिवारी उम्र 32 वर्ष निवासी विजयनगर ने लिखित शिकायत की कि 2 माह पहले वह जाॅब की तलाश में थी उसी समय उसकी दोस्त श्रृद्धा ने बताया था कि जगदीश मंदिर गढ़ाफाटक के पास लाईफ केयर सोसायटी जो कि मनीष कनोजिया चलाते हैं के यहाँ नौकरी के लिये एक महिला स्टाफ की जरूरत है, उसने लाईफ केयर सोसायटी जाकर मनीष कनोजिया से बात की जिन्हौंने उसे समझाया कि हेल्थ केयर सोसायटी एक एन.जी.ओ है जिसका हर साल मार्च में आडिट सरकार के द्वारा किया जाता है आप को आफिस के रजिस्टर मेन्टेन का काम करना है आफिस में जो भी लोग आयेंगे उनका रजिस्टर में नाम एवं फोन नम्बर दर्ज करने का कार्य करना पड़ेगा, लाईफ केयर सोसायटी लोगों को हेल्थ स्कीम प्रदान करती है एवं विधवा पेंशन, बेरोजगार पेशन, वृद्धा अवस्था पेंशन , विकलांग पेंशन, बिजली बिल स्कीम, रसोई गैस सबसीडी पर 610 रूपये लेकर लोगों को रजिस्ट्रेशन करवा कर और लोगों को जोड़ने पर प्रत्येक ग्राहक को 11 माह तक 500-500 रूपये प्रदान करेगी, आडिट होने के बाद सरकार कम्पनी को यह पैसे वापस कर देगी कम्पनी का राज्य सरकार से अंनुबंध है  कम्पनी अपने प्रोडेक्ट भी बेचती है एवं कम्पनी पूरी तरह सही है सभी शासकीय कार्यालयों में इसका रजिस्ट्रेशन है मनीष कनोजिया द्वारा ऐसा आश्वासन देते हुये दस हजार रूपये  मासिक वेतन देने की बात करने पर उसने दि. 4-12-2020 को लाईफ केयर सोसायटी कम्पनी में नौकरी ज्वाईन कर ली नौकरी ज्वाईन करने के बाद कुछ दिनों तक वहां आने वाले लोगों के रजिस्ट्रेशन में नाम लिखे एवं फार्म भरे फिर कुछ दिनों बाद उसे मनीष कनोजिया सर ने कहा कि जब तक आप एक महिने में कम्पनी के लिये 150 मैम्बर नहीं जोड़ोगी तब तक आप को वेतन नहीं दिया जायेगा तब उसने कहा कि वह 150 लोगों को नहीं जोड़ पायेगी तो मनीष सर ने उसे वेतन नहीं दिया , उसने कम्पनी के द्वारा किये जाने वाले काम पर ध्यान दिया तो पता चला कि मनीष कनोजिया की कम्पनी एक चिट फंड कम्पनी है जो कि पहले एक ग्राहक बनाकर उससे रजिस्ट्रेशन फीस के नाम पर 610 रूपये लेती हैं और उन्हेें दूसरे महिने से हर महीने 11 महिनों तक 500 रूपये लाईफ केयर सोसायटी द्वारा विधवा पेंशन, बेरोजगार पेंशन, वृद्धा अवस्था पेंशन, विकलांग पेंशन, बिजली बिल स्कीम, रसोई गैस सबसीडी के नाम पर चैन सिस्टम के जरिये नये ग्राहक बनाने पर दिया जाता है जो ग्राहक चैन सिस्टम के जरिये नये ग्राहक नहीं जोड़ पाते थे उन्हें मनीष कनोजिया कम्पनी से हटा देते थे कम्पनी के संचालक मनीष कनोैजिया द्वारा इस तरह चैन सिस्टम के जरिये ग्राहकों को जोड़कर पैसों का लेन देन कर रहे हैं एवं उसे उसके काम का वेतन भी नहीं दे रहे हैं उसे ऐसी जानकारी लगी है कि मनीष कनोजिया अपनी कम्पनी बंद करके कहीं भागने वाले हैं मनीष कनोजिया बिना रिजर्व बैंक की अनुमति के कई लोगों से 610-610 रूपये जमा करवा कर चैन सिस्टम के जरिये लोगों से रूपये का लेन देन कर बैंकिग कार्य कर धोखाधड़ी कर रहे हैं।

         शिकायत पर मनीष कनोजिया संचालक लाईफ केयर सोसायटी जगदीश मंदिर गढ़ा फाटक द्वारा लोगों से विधवा पेंशन, बेरोजगार पेंशन, वृद्धा अवस्था पेंशन, विकलांग पेंशन, बिजली बिल स्कीम, रसोई गैस सब्सिडी के नाम पर आमजनों से 610 रूपये लेकर चैन सिस्टम द्वारा लोगों को जोड़कर उन्हें हर माह 500 रूपये का लालच देकर अवैध लाभ अर्जित कर धोखाधड़ी करना पाया जाने पर मनीष कनोजिया के विरूद्ध धारा 420, 467,468,471,472,473, भादवि 4,6 निक्षेपकों का संरक्षण अधिनियम का अपराध पंजीबद्ध कर सरगर्मी से तलाश करते हुये लाईफ केयर सोसायटी के संचालक मनीष कनोजिया पिता स्व. शंकर कनौजिया उम्र 41 वर्ष निवासी लालमाटी घमापुर को अभिरक्षा में लेते हुये पूछताछ की गयी जिस पर पाया गया कि  02 माह पूर्व ही मनीष कनौजिया ने उपरोक्त चिटफंड कम्पनी के नाम पर कार्य प्रारम्भ किया था। मनीष कनौजिया की निशादेही पर 295 लोगों से 610 रूपये लेकर उनके  भरे हुये रजिस्ट्रेशन फार्म तथा फार्म में लगायी जाने वाली एक सील तथा 300 खाली रजिस्ट्रेशन फार्म जप्त करते हुये प्रकरण मे विधिवत गिरफ्तार कर मान्नीय न्यायालय के समक्ष पेश किया जा रहा है।