गुप्त नवरात्रि के दौरान संतान प्राप्ति से लेकर कर्ज से मु्क्ति पाने तक के लिए करें ये खास उपाय - Jai Bharat Express

Breaking

गुप्त नवरात्रि के दौरान संतान प्राप्ति से लेकर कर्ज से मु्क्ति पाने तक के लिए करें ये खास उपाय

 गुप्त नवरात्रि के दौरान संतान प्राप्ति से लेकर कर्ज से मु्क्ति पाने तक के लिए करें ये खास उपाय




 साल में चार नवरात्रि आती है जिनमें से दो गुप्त नवरात्रि आती है। आमतौर पर लोग शारदीय और चैत्र नवरात्रि के बारे में ही जानते हैं। लेकिन  इसके अलावा दो और नवरात्रि भी आती हैं। जिनमें विशेष कामनाओं की सिद्धि की जाती है, गुप्त नवरात्रि में सात्विक और तांत्रिक पूजा की जाती है। गुप्त नवरात्रि में पूजा और मनोकामना को गुप्त रखा जाता है। कहते हैं कि ऐसा करने से मां दुर्गा का आशीर्वाद प्राप्त होता है और फल दोगुना मिलता है। गुप्त नवरात्रि के दौरान विवाह, नौकरी आदि संबंधित कई उपाय भी किये जाते हैं। इस साल माघ गुप्त नवरात्रि 12 फरवरी से शुरू हो रहे हैं। जानिए इन उपायों के बारे में

1. संतान प्राप्ति के लिए - गुप्त नवरात्रि के दौरान संतान प्राप्ति के लिए 9 दिन मां दुर्गा को पान का पत्ता अर्पित करना चाहिए। पान का पत्ता कटा-फटा नहीं होना चाहिए। पूजा के दौरान नन्दगोपगृह जाता यशोदागर्भ सम्भवा ततस्तौ नाशयिष्यामि विन्ध्याचलनिवासिनी मंत्र का जाप करना चाहिए। कहते हैं कि ऐसा करने से मनोकामना पूरी होती है।

2. नौकरी की समस्या के लिए - नौकरी या जॉब में किसी तरह की समस्या आ रही है तो गुप्त नवरात्रि के दौरान 9 दिन तक मां दुर्गा को बताशे पर रखकर लौंग अर्पित करनी चाहिए। इस दौरान सर्वबाधा विनिर्मुक्तो धन धान्य सुतान्वित: मनुष्यो मत्प्रसादेने भविष्यति ना संशय: मंत्र का जाप करना चाहिए। 

3. खराब सेहत के लिए - खराब सेहत से छुटकारा पाने के लिए 9 दिन तक देवी मां को लाल पुष्प अर्पित करना चाहिए। इस दौरान ऊं क्रीं कालिकायै नम: मंत्र का जाप करना चाहिए। मान्यता है कि ऐसा करने से व्यक्ति स्वस्थ होता है।

4. कर्ज से मुक्ति पाने के लिए - कर्ज या किसी वाद-विवाद से मुक्ति पाना चाहते हैं तो इसके लिए 9 दिन तक देवी मां के सामने गुग्गल की सुगंध वाला धूप जलाएं। ऐसा करने से समस्याओं से मुक्ति मिलती है। इस दौरान ऊं दुं दुर्गाय नम: का जाप करना चाहिए।

5. विवाह के लिए - अगर विवाह में कोई बाधा आ रही है तो पूरे 9 दिन पीले फूलों की माला अर्पित करनी चाहिए। इस दौरान कात्यायनी महामाये, महायोगिनयधीश्वरी नन्दगोपसुतं देवी, पति में कुकू ते नम: मंत्र का जाप करना चाहिए।