Uttarakhand rescue operation: अब तक 35 शव बरामद, लापता लोगों की कुल संख्या 204 - Jai Bharat Express

Breaking

Uttarakhand rescue operation: अब तक 35 शव बरामद, लापता लोगों की कुल संख्या 204

 


Uttarakhand rescue operation: उत्तराखंड में ग्लेशियर टूटने के बाद अब तक 35 लोगों के शव बरामद हुए हैं जिनमें से 10 शवों की शिनाख्त हो पाई. लापता लोगों की कुल संख्या 204 है. उत्तराखंड के राज्यपाल बेबी रानी मौर्य और विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल ने चमोली ज़िले के तपोवन का दौरा किया. राज्यपाल ने कहा, "हम लगातार अधिकारियों के संपर्क में हैं. यह प्राकृतिक आपदा है जो किसी के वश में नहीं है. ईश्वर से प्रार्थना है कि अंदर फंसे लोग जल्दी बाहर आएं."

चमोली में तपोवन सुरंग पर बचाव अभियान शुरू करने वाली भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (आईटीबीपी) की टीम ने कहा कि ऐसी संभावना है कि कुछ और लोग सुरंग के अंदर फंस सकते हैं. आईटीबीपी की टीमों ने गुरुवार को जानकारी दी कि बचाव दलों ने अपने बचाव अभियान के एक हिस्से के रूप में वहां से स्लश को हटाने के लिए तपोवन सुरंग के 12 से 13 मीटर नीचे 'स्लश फ्लशिंग टनल' में झांकने के लिए सुबह 2 बजे से ड्रिलिंग अभियान शुरू किया है.

आईटीबीपी के डीआईजी अपर्णा कुमार ने कहा "इस बात की संभावना है कि सुरंग के अंदर कुछ और लोग फंसे रह सकते हैं, एनटीपीसी की टीम वर्टिकल ड्रिलिंग का इस्तेमाल कर रही है." करीब 30 लोगों के फंसे होने की आशंका है. इस बीच डीजीपी उत्तराखंड अशोक कुमार ने कहा ''हम कल तक मलबा हटाने के लिए बड़ी सुरंग में बचाव अभियान चला रहे थे. हमने यह देखने के लिए एक छोटी व्यास सुरंग में ड्रिलिंग भी शुरू कर दी है.

उन्होंने कहा कि बरामद शवों के डीएनए नमूने संरक्षित किया जा रहा है. बरामद 34 शवों में से 10 की अब तक पहचान हो चुकी है. आज सुबह ड्रिलिंग शुरू करने वाली ITBP टीमों ने अपडेट के साथ कुछ ट्वीट किए. पहले ट्वीट में कल शाम ITBP ने कहा ''तपोवन की सुरंग अब अंदर है क्योंकि मशीनों से पानी निकालना जारी है. रात भर बचाव के प्रयास जारी रहेंगे.

आईटीबीपी ने ट्वीट किया, "बचाव अभियान टीमों ने सुबह 12 से 13 मीटर नीचे की ओर फ्लश फ्लशिंग टनल में झांकने के लिए बचाव अभियान शुरू किया. यह सुरंग उस जगह से किया जा रहा है जहां बचाव दल वर्तमान में आ रहा है."