Weather Update MP: गर्मियों में तीन महीने चलेगी धूल भरी आंधियां, - Jai Bharat Express

Breaking

Weather Update MP: गर्मियों में तीन महीने चलेगी धूल भरी आंधियां,

  


MP Weather Update। इस बार गर्मियों में अप्रैल से मई माह तक इंदौर, उज्जैन, ग्वालियर व चंबल संभाग सहित पश्चिम मध्य प्रदेश में धूल भरी आंधियां ज्यादा समय के लिए चलेंगी।

इस वजह से वातावरण में धूल की मात्रा ज्यादा बरकरार रहेगी। भोपाल स्थित मौसम केंद्र के मौसम विज्ञानी वेद प्रकाश सिंह के मुताबिक इन चारों संभाग में दिन के तापमान सामान्य से थोड़ा अधिक .1 डिग्री से .2 डिग्री तक सामान्य से अधिक हो सकते हैं। वहीं रात के तापमान सामान्य रहेंगे। पूर्वी मप्र में तापमान सामान्य से .05 डिग्री अधिक रहेगा और रात में सामान्य से कम रहेगा। इस बार पूर्वी मध्य प्रदेश के मुकाबले पश्चिमी मध्य प्रदेश गर्म रहेगा और गुजरात व राजस्थान से लगे इलाकों में अप्रैल व मई में धूल भरी आंधियां ज्यादा चलेंगी। इंदौर में लू के दिनों की संख्या ज्यादा नहीं होगी लेकिन लू के दिनों में तापमान की सीमा में तेजी से बढ़ोतरी देखने को मिलेगी। बुधवार को शहर में अधिकतम तापमान सामान्य से दो डिग्री अधिक 37.9 डिग्री दर्ज किया गया, वहीं न्यूनतम तापमान सामान्य से तीन डिग्री अधिक 21.4 डिग्री दर्ज किया गया।

गले के संक्रमण व श्वसन रोगियों अगले दो माह रखना होगी सावधानी
अगले दो माह में इंदौर सहित प्रदेश भर में धूल भरी आंधियां व वातावरण में धूल होने के कारण श्वसन रोगियों को काफी सर्तकता बरतना होगी। वातवरण में धूल होने से गले में खराश, खांसी जैसी बीमारियों होती है। दमे के रोगियों की परेशानी भी बढ़ जाती है। इंदौर में जब कोविड संक्रमण बढ़ रहा है। ऐसे में वातावरण में धूल होने से कोविड संक्रमण जैसी बीमारी को भी बढ़ावा मिलेगा। इस वजह से विशेषज्ञों के मुताबिक घर से बाहर निकलते समय लोगों को चेहरे पर मास्क पहनने की आदत का पालन करना होगा। इससे वो कोविड के साथ धूल से भी बच सकेंगे।

मप्र की नमी बिहार व पश्चिम बंगाल जाने से तापमान बढ़ा
मौसम विज्ञानियों के मुताबिक मार्च माह में 29 दिसंबर को इंदौर सहित प्रदेश के अधिकांश शहरों में तापमान में जो एकाएक इजाफा हुआ वो अस्थाई था। पश्चिमी विक्षोभ का असर बिहार, पश्चिम बंगाल व सिक्किम में होने के कारण मप्र की नमी खींचकर वहां चली गई। इस वजह से दो दिन के लिए इंदौर सहित प्रदेश के अधिकांश हिस्सों में तापमान में एकाएक बढ़ोतरी देखने को मिली।