जल्द होगी 5 हजार पुलिस जवानों की भर्ती,पुलिस भर्ती में 50 प्रतिशत अंक फिजिकल के और 50 प्रतिशत अंक लिखित परीक्षा के होंगे देखिए क्या बोले शिवराज - Jai Bharat Express

Breaking

जल्द होगी 5 हजार पुलिस जवानों की भर्ती,पुलिस भर्ती में 50 प्रतिशत अंक फिजिकल के और 50 प्रतिशत अंक लिखित परीक्षा के होंगे देखिए क्या बोले शिवराज

जल्द होगी 5 हजार पुलिस जवानों की भर्ती जानिए सीएम ने और क्या-क्या निर्देश दिए।

 



 


अपराधियों पर चौकसी और सख्ती के लिए पर्याप्त पुलिस बल की आवश्यकता है। अत: शीघ्र पुलिस फोर्स में 5 हजार पुलिस जवानों की भर्ती की जाएगी।


भोपाल|मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इंदौर, रतलाम, भोपाल, जबलपुर, उज्जैन, सिवनी, रीवा, सिंगरौली और शहडोल में बहन-बेटियों के विरूद्ध अपराध करने वालों पर पुलिस द्वारा की गई त्वरित और कड़ी कार्यवाही के लिए पुलिस को बधाई देते हुए कहा है कि प्रदेश में इस प्रकार की कार्यवाहियाँ निरंतर जारी रहेंगी। गरीबों को दबाने वाले और बहन-बेटियों के विरूद्ध अपराध करने वालों की आर्थिक कमर भी तोड़ी जाएगी।



मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि अपराधियों पर चौकसी और सख्ती के लिए पर्याप्त पुलिस बल की आवश्यकता है। अत: शीघ्र पुलिस फोर्स में 5 हजार पुलिस जवानों की भर्ती की जाएगी। पुलिस भर्ती में 50 प्रतिशत अंक फिजिकल के और 50 प्रतिशत अंक लिखित परीक्षा के होंगे। चयन प्रक्रिया में पारदर्शिता सुनिश्चित करने के लिए अद्यतन तकनीक का उपयोग किया जाए। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने मदिरा दुकानों की पूजा स्थलों, शालाओं और महाविद्यालयों से दूरी के संबंध में आवश्यक नियमों का कड़ाई से पालन सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने प्रदेश पुलिस द्वारा हाल ही में आतंकवादियों के विरूद्ध की गई कार्यवाही के लिए बधाई भी दी।



मुख्यमंत्री श्री चौहान मंत्रालय में पुलिस के कार्यों की समीक्षा तथा आगामी दो वर्ष में अपराध नियंत्रण और पुलिस आधुनिकीकरण की कार्य-योजना पर आयोजित बैठक को संबोधित कर रहे थे। गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र, मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह बैंस, अपर मुख्य सचिव सचिव गृह डॉ. राजेश राजौरा, पुलिस महानिदेशक श्री सुधीर सक्सेना , एडीजीपी इंटेलीजेंस श्री आदर्श कटियार तथा अन्य अधिकारी उपस्थित थे। बैठक में माफिया के विरूद्ध प्रभावी कार्यवाही, थाना व्यवस्था के सुदृढ़ीकरण, महिला सुरक्षा, अनुसूचित जाति तथा जनजाति कल्याण, कानून-व्यवस्था और नक्सल विरोधी अभियान, नार्कोटिक्स, सायबर अपराध तथा सुरक्षा, पुलिस प्रशिक्षण, कल्याण गतिविधियों तथा चयन एवं भर्ती के संबंध में प्रस्तुतिकरण दिया गया और चर्चा हुई।