खत्म हुआ राजस्थान का सियासी घमासान, राहुल-प्रियंका ने निभाई अहम भूमिका - Jai Bharat Express

Breaking

खत्म हुआ राजस्थान का सियासी घमासान, राहुल-प्रियंका ने निभाई अहम भूमिका

नई दिल्ली:
राजस्थान में जारी सियासी घमासान अब टल चुका है. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के खिलाफ बगावती तेवर अपनाने वाले सचिन पायलट मान चुके हैं. इस पूरे प्रकरण में सबसे अहम रोल कांग्रेस नेता राहुल गांधी और कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी का माना जा रहा है. बताया जा रहा है कि राजस्थान में शुरू हुए सियासी घमासान की शुरुआत से ही प्रियंका गांधी सचिन पायलट के संपर्क में थीं. इतना ही नहीं पायलट और राहुल गांधी की बातचीत के दौरान भी प्रियंका गांधी मौजूद थीं. बताया जा रहा है कि राहुल गांधी और प्रियंका की पहल के बाद ही सचिन पायलट दोबारा लौट आए हैं.
मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो खुद पायलट ने कहा है कि मुझें किसी पद की कोई इच्छा नहीं है, लेकिन मैं चाहता था कि स्वाभिमान बरकरार रहे.
दरअसल राजस्थान का पूरा घटनाक्रम उस वक्त बदला जब राहुल सचिन पायलट ने राहुल गांधी से मिलने का समय मांगा. मुलाकात के दौरान प्रियंका गांधी भी मौजूद रही जिसके बाद तीनों नेता सोनिया गांधी से मिलने पहुंचे. माना जा रहा है कि इस पूरे घटनाक्रम में सोनिया गांधी का रोल भी काफी अहम था. सोनिया गांधी ने कमेटी का गठन भी इसलिए किया है जिससे पायलट और उनके समर्थक विधायकों की ओर से उठाए गए मुद्दों का उचित समाधान किया जा सके.
वहीं राजस्थान के पूर्व डिप्टी सीएम सचिन पायलट ने कहा कि मुझे खुशी है कि कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने विस्तार से चर्चा की. इस दौरान हमने साथी विधायकों की बातों को सामने रखा. मुझे भरोसा दिया गया है कि तीन सदस्यीय की कमेटी जल्द इन तमाम मुद्दों का समाधान करेगी. ये सैद्धांतिक मुद्दे थे.
सचिन पायलट ने पत्रकारों से कहा कि पार्टी पद देती है तो पद ले भी सकती है. मुझे पद की बहुत लालसा नहीं है, लेकिन मैं चाहता हूं कि जो मान-सम्मान-स्वाभिमान की बात हम करते थे वो बनी रहे. हमने हमेशा प्रयास किया है कि जिनकी मेहनत से सरकार निर्माण हुआ है उन लोगों की हिस्सेदारी, भागेदारी सुनिश्चित की जाए.
बागी विधायक भंवरलाल शर्मा ने मुख्यमंत्री गहलोत से मुलाकात की
राजस्थान में कांग्रेस के दोनों धड़ों के बीच 'सुलह' का संकेत देते हुए बागी विधायक भंवरलाल शर्मा ने सोमवार को यहां मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से मुलाकात की और कहा कि राजस्थान में गहलोत सरकार सुरक्षित है. शर्मा कांग्रेस के उन 19 विधायकों में से हैं जो गहलोत के नेतृत्व से नाराजगी जताते हुए बागी हो गए थे और कई दिनों से हरियाणा के एक रिजॉर्ट में रुके हुए थे.