बारिश के सीजन में रहिए बचके वरना हो सकते है डेंगू और चिकनगुनिया के शिकार, जानें बचाव और उपाय - Jai Bharat Express

Breaking

बारिश के सीजन में रहिए बचके वरना हो सकते है डेंगू और चिकनगुनिया के शिकार, जानें बचाव और उपाय

जहां एक ओर पूरा देश कोरोना से जंग रहा है तो वहीं मानसून सीजन में दो गंभीर बीमारियों का खतरा भी मंडरा रहा है। ये दोनों बीमारियां इतनी घातक है कि समय पर इलाज न होने पर जान से हाथ भी धोना पड़ सकता है। मानसून में जलभराव हो जाता है जिससे मच्छर पनपते हैं ऐसे में डेंगू और चिकनगुनिया का खतरा बढ़ जाता है। ये दोनों बीमारियां एक ही मच्छर के काटने से फैलती हैं साथ ही दोनों में प्लेटलेट्स गिरने लगते हैं। जानिए डेंगू और चिकनगुनिया से खुद को कैसे बचाएं और इसका इलाज क्या है। साथ ही कैसे घर पर किन जूस को पीकर प्लेटलेट्स बढ़ा सकते हैं।
कैसे होता है डेंगू और चिकनगुनिया 
चिकनगुनिया बीमारी मच्छर के काटने से होती है। ये बीमारी जिस मच्छर की वजह से फैलती है उस मच्छर का नाम है मादा एडिस एजिप्टी और एडीस एल्बोपिक्टस। खास बात है कि चिकनगुनिया और डेंगू दोनों बीमारी इसी मच्छर के काटने से फैलती है। इन मच्छरों की खासियत है कि ये ज्यादा ऊंचे नहीं उड़ पाते और दिन में ही काटते हैं।
तुरंत दिखाएं डॉक्टर को, प्लेटलेंट्स गिरने से हो सकता है खतरा 
इन लक्षणों के दिखते ही तुरंत डॉक्टर को दिखाएं और डेंगू का टेस्ट कराएं। डेंगू के बुखार में प्लेटलेट्स लगातार कम होने लगते हैं। इनका कम होना मरीज के लिए जानलेवा भी हो सकता है। दरअसल, प्लेटलेट्स बॉडी की ब्लीडिंग को रोकने का काम करते हैं। एक स्वस्थ्य व्यक्ति के शरीर में डेढ़ से दो लाख प्लेटलेट्स होते हैं। डेंगू के बुखार में ये प्लेटलेट्स कम होने लगती हैं। अगर ये प्लेटलेट्स एक लाख से कम हैं तो तुरंत अस्पताल में भर्ती कराना चाहिए। अगर प्लेटलेट्स गिरकर 20 हजार से भी कम होने लगती है तो डॉक्टर्स प्लेटलेट्स भी चढ़ाते हैं।
दवा के अलावा इन चीजों के सेवन से बढ़ा सकते हैं प्लेटलेट्स 
  • 10-20 एमएल पपीते के पत्तों का रस पीएं
  • 150 एमएल व्हीट ग्रास का जूस पीएं
  • रोज अनार का जूस पीने से लाभ
  • अनार हीमोग्लोबिन बढ़ाने में मदद करता है
  • अनार प्लेटलेट्स बढ़ाता है
  • रोजाना 8-10 ग्लास पानी पीएं
  • पानी की कमी डेंगू-चिकगुनिया में घातक
घर पर ऐसे बनाएं जूस 
  • पपीते के पत्ते को लें और उन्हें कूट लें। एक बार में एक पपीते का पत्ता पर्याप्त है। 
  • गिलोय के पत्ते लें और उसे पीस लें। इसका रस रोजाना खाली पेट पीएं।
  • एलोवीरा के पत्ते से उसका गूदा निकाल लें। उसे मिक्सी में डालकर पीस से। रोजाना खाली पेट पीने से फायदा होगा। 
  • व्हीट ग्राम का भी इसी तरह से जूस निकालकर रोजाना खाली पेट पीएं।
  • अनार के दाने निकालें और उन्हें मिक्सी में डालकर पीस लें। इस जूस को रोजाना पिएं। 
इन चीजों का रखें ख्याल
  • इस बीमारी से बचने का सबसे अच्छा उपाय है अपने आसपास जलभराव न होने देना
  • अगर आसपास पानी जमा हो तो उसमें मिट्टी भर दें। अगर ऐसा करना संभव नहीं है तो उसमें मिट्टी के तेल भी बूंदे डाल दें
  • खुले पानी को न पिएं
  • रात को सोते वक्त मच्छरदानी का इस्तेमाल करें या फिर मॉस्किटो रिफिल लगाएं
  • फुल आस्तीन के कपड़े पहनें