घर में काम करने वाली महिला ने बुजुर्ग महिला के खाते से पार कर दिये 1 लाख 89 हजार रूपये - Jai Bharat Express

Breaking

घर में काम करने वाली महिला ने बुजुर्ग महिला के खाते से पार कर दिये 1 लाख 89 हजार रूपये


 1लाख 89 हजार रूपये  एटीएम से निकालकर अमानत मे ख्यानत कर हड़पने वाली  केयर टेकर युवती पुलिस गिरफ्त में

 

जबलपुर पुलिस अधीक्षक  ने संस्कारधानी वासियों से की अपील घरेलू नौकर एवं केयरटेकर तथा किराएदार की जानकारी अनिवार्य रूप से संबंधित थाने को दें ताकि तस्दीक कराई जा सके


          थाना प्रभारी ओमती श्री एस.पी.एस. बघेल ने बताया कि श्रीमती वायलेट प्रसाद उम्र 81 वर्ष निवासी  मिशन कम्पाउण्ड ने लिखित शिकायत की उसके पुत्र एंव पुत्री राज्य के बाहर नौकरी करते है। वह अपने पति के साथ रहती है उसे केयर टेकर की आवश्यकता रहती है उसने मौहल्ले में काम करने वाली पूजा काछी को काम करने के लिये किसी लड़की के बारे में बताने के लिये कहा था तो पूजा काछी सुलोचना को उसके घर पर काम करने के लिये लाई थी, उसने दिनांक 7-10-2020 को केयर टेकर के काम के लिये सुलोचना को काम पर रखा था, सुलोचना घर का सारा काम करती थी और उसकी देखरेख करती थी चूंकि वह बुजुर्ग और कहीं आने जाने में अक्षम है इस कारण से पैसे निकालने के लिए  सुलोचना को बैंक भेजा था । सुलोचना ने बताया की वहां हस्ताक्षर काम नहीं कर रहा है तो अंगूठा निशानी के लिये बोली थी परन्तु उससे भी पैसा नहीं निकाला तो उसने सुलोचना को पैसे निकालने के लिये अपना एटीएम दे दिया था सुलोचना ने एटीएम से पैसे निकालकर उसे 15 हजार रूपये लाकर दिया था। लेकिन एटीएम को वापस नहीं किया  उसने एटीएम मांगा तो सुलोचना  बहाना बनाती थी कि बैंक में छूट गया है फिर कहा घर मे रखा है ।  दिनांक 13-11-2020 को दीवाली में घर जाने के लिये छुट्टी मांगी तो उसने सुलोचना को छुट्टी दे दी थी उसे दिनांक 20-11-2020 को बैंक वालों ने फोन कर बताया कि आपके एटीएम से लगातार पैसे निकल रहे हैं क्या आपने निकाले हैं तो उसने मना कर दिया, तो बैक वालों ने एटीएम को बंद कर दिया था फिर उसने अपने खाते की जानकारी मंगाई तो पता चला कि उसके बैंक खाते से दिनांक 2-11-2020 से दिनांक 19-11-2020 के बीच में एटीएम के माध्यम से कुल 2 लाख 4 हजार रूपये निकाले गये है जिसमें से सुलोचना ने उसे मात्र 15 हजार रूपये लाकर दिये थे, शेष राशि सुलोचना द्वारा उसके खाते से निकाल कर गबन कर लिया गया है।

              शिकायत जांच पर दिनांक 5-11-2020 से 8-11-2020 के बीच सिविल लाईन स्थित एटीएम से 35 हजार रूपये, दि. 10-11-2020 को रसल चौक से 16 हजार रूपये, दि.11-11-2020 से दि. 14-11-2020 केा प्रस्थान परिसर एटीएम से 54 हजार रूपये  दि. 13-11-2020 को मेन ब्रांच एटीएम से 18 हजार रूपये दिनांक 15-11-2020 से दि. 19-11-2020 के बीच ब्लाक नम्बर 11 सावरकर मुरवारा से 81 हजार रूपये कुल 2 लाख 4 हजार रूपये सुलोचना द्वारा निकाला जाना, जिसमें से 15 हजार रूपये मात्र श्रीमति वायलेट प्रसाद को दिया जाना शेष रूपये सुलोचना द्वारा अमानत में ख्यानत कर हड़प लेना पाया जाने पर वरिष्ठ अधिकारियों को अवगत कराते हुये सुलोचना निवासी एन.के.जे. कटनी के विरूद्ध धारा 406 भादवि का अपराध पंजीबद्ध कर विवेचना मे लिया गया।

                        पुलिस अधीक्षक जबलपुर श्री सिद्धार्थ बहुगुणा (भा.पु.से.) द्वारा बुर्जुग महिला के साथ घटित हुई घटना को गम्भीरता से लेते हुये तत्काल वैधानिक कार्यवाही करते हुये पतासाजी कर शीघ्र गिरफ्तारी एवं रूपयों की बरामदगी हेतु आदेशित किये जाने पर गठित टीम के द्वारा पतासाजी की गयी तो श्रीमति वायलेट प्रसाद के पास मात्र केयर टेकर सुलोचना का मोबाईल नम्बर था कहाॅ रहती है एवं कहाॅ की रहने वाली है कोई जानकारी नहीं थी, ।

                       अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक शहर श्री अमित कुमार  (भा.पु.से.) एवं नगर पुलिस अधीक्षक ओमती श्री आर.डी. भारद्वाज के मार्ग दर्शन में टीम के द्वारा तलाश पतासाजी करते हुये कु. सुलोचना रैदास उम्र 23 वर्ष निवासी एन.के.जे. कटनी हाल की जो कि हाथीताल कालोनी गोरखपुर मे रह रही थी, को कटनी से अभिरक्षा में लेते हुये पूछताछ की गयी जिसने लालच में आकर एटीएम से रूपये निकालना स्वीकार किया, निकाले  हुये रूपयों की बरामदगी के प्रयास जारी है।

                     उल्लेखनीय है कि जबलपुर स्थित एक प्राईवेट इंजीनियरिंग कालेज से कु. सुलोचना रैदास  ने इलेक्ट्रीकल इंजीनियरिंग की है।  

    पुलिस अधीक्षक जबलपुर श्री सिद्धार्थ बहुगुणा (भा.पु.से.) ने जबलपुर संस्कारधानी निवासियों से अपील की है कि घर पर काम करने वाले घरेलू नौकर एवं केयर टेकर तथा किरायेदार  को रखने से पहले नाम पता की पूरी जानकारी पता कर लें साथ ही अनिवार्य रूप से अपने सम्बंधित थाने को भी जानकारी उपलब्ध करायें ताकि सम्बंधित के सम्बंध मे तस्दीक कराई जा सके।