अंधी हत्या का पुलिस ने किया खुलाशा पत्नी पर आपत्तिजनक टिप्पणी की बात निकल कर आई सामने आरोपी को पुलिस ने किया गिरफ्तार - Jai Bharat Express

Breaking

अंधी हत्या का पुलिस ने किया खुलाशा पत्नी पर आपत्तिजनक टिप्पणी की बात निकल कर आई सामने आरोपी को पुलिस ने किया गिरफ्तार


 खालसा कालेज के आफिस इंचार्ज गौरव गुप्ता की टीका टिप्पणी से परेशान होकर सहकर्मी कैशियर ने ही की थी हत्या, आरोपी चंदन सिंह गिरफ्तार


जबलपुर : थाना गोरखपुर अपराध क्र. 658/2020 धारा 302,201 भादवि


 नाम गिरफ्तार आरोपी - चंदन सिंह उम्र 32 वर्ष निवासी गोकलपुर रांझी


              थाना गोरखपुर में दिनांक 3-12-2020 को रात्रि 8-20 बजे आशीष गुप्ता उम्र 34 वर्ष निवासी पंचशील नगर ज्ञान विहार कालोनी नर्मदा रोड रामपुर गोरखपुर ने रिपोर्ट दर्ज करायी थी कि दिनांक 3-12-2020 को सुबह 9-30 बजे उसके बड़े भाई गौरव गुप्ता उम्र 40 वर्ष रोजाना की तरफ खालसा कालेज जाने के लिये एक्सिस क्रमांक एमपी 20 एसक्यू 9674 से घर से निकले थे जो घर वापस नहीं आये, जिनका मोबाईल बंद आ रहा है, पता करने पर ज्ञात हुआ कि कालेज भी नहीं पहुंचे थे। सूचना पर गुमइंसान क्रमांक 84/2020 कायम कर जांच में लिया गया।

            पुलिस अधीक्षक जबलपुर श्री सिद्धार्थ बहुगुणा (भा.पु.से.) द्वारा घटित हुई घटना को गम्भीरता से लेते हुये गुमशुदा की शीघ्र तलाश पतासाजी कर दस्तयाबी हेतु आदेशित किये जाने पर अति. पुलिस अधीक्षक शहर दक्षिण/अपराध श्री गोपाल प्रसाद खाण्डेल एवं नगर पुलिस अधीक्षक गोरखपुर आलोक शर्मा द्वारा थाना प्रभारी गोरखपुर सारिका पाण्डे के नेतृत्व में टीम गठित कर लगायी गयी। सभी थानों को वायरलैस सेैट के माध्यम से गुमशुदा के हुलिया एवं एक्सिस वाहन के सम्बंध में सूचित किया गया, सीसीटीव्ही कैमरे के फुटेज खंगाले गये, तथा दिनाॅक 4-12-2020 को कालेज में काम करने वालों से पूछताछ की गयी। पूछताछ पर सबसे करीबी कैशियर चंदन सिंह को दिनाॅक 5-12-2020 को थाने में तलब किया गया जो थाने  नहीं आया , जिसकी पूछताछ हेतु तलाश की जा रही थी।

दिनांक 6-12-2020 को चंदन सिंह के शुभम अस्पताल में भर्ती होने की सूचना पर पूछताछ की गयी तो चंदन सिंह ने बताया कि पत्नि से विवाद होने पर टैंशन मे आकर उसने फिनाईल पी लिया है, अस्पताल में भर्ती होने के कारण गुमशुदा के सम्बंध मे पूछताछ नहीं की जा सकी।  

           इस दौरान गुमशुदा की तलाश पतासाजी के दिनाॅक 7-12-2020 को गुमशुदा की एक्सिस हाउबाग स्टेशन के पास स्थित मैदान से पंप हाउस की ओर जाने वाले पगडण्डी रास्ते पर खड़ी होने की सूचना पर तत्काल थाना प्रभारी गोरखपुर सारिका पाण्डे, नगर पुलिस अधीक्षक गोरखपुर आलोक शर्मा एवं अति. पुलिस अधीक्षक शहर दक्षिण  गोपाल खाण्डेल मौके पर पहुंचे जहाॅ गुमशुदा की एक्सिस लाॅक अवस्था में खड़ी मिली, चाबी नहीं थी, पास ही गुमशुदा का हैलमेट, तथा एक पाॅलीथीन के अंदर थैले में एक कम्बल, जो कि गुमशुदा का नहीं है, तथा गुमशुदा का मफलर एवं 1 जोड़ी जूते रखे हुये है एवं गुमशुदा का पीले रंग का पिट्ठू बैग जिसमे गुमशुदा का आईकार्ड, फीस रसीद बुक,चैक बुक, अलमारी की चाबी, मास्क, एवं नगदी 17 हजार रूपये रखे हुये मिले। सूचना पर पहुंची एफएसएल टीम एवं डाॅग स्क्वाड की उपस्थिति में चैक किया गया तो पीले रंग के पिट्ठू बैग एवं कम्बल में खून लगा हुआ मिला तथा एक्सिस की डिक्की को खोलकर चैक किया गया तो डिक्की में टिफिन जिसमे खाना भरा हुआ है एवं पानी की बाॅटल रखी हुई मिली, ।

              दिनाॅक 7-12-2020 को चंदन सिंह के शुभम अस्पताल से डिस्चार्ज होने पर चंदन सिंह उम्र 32 वर्ष निवासी गोकलपुर रांझी से सघन पूछताछ की गयी तो चंदन सिंह ने बताया कि साथ में काम करने वााले गौरव गुप्ता सीनियर एवं आफिस इंचार्ज होने के नाते व्यवसायिक कार्यो में डांटने के आलावा व्यक्तिगत जीवन को लेकर टीका टिप्पणी करते थे। उसने प्रेम विवाह किया था, उसकी पत्नि पर आपत्तिजनक टिप्पणी किया करते थे, गौरव गुप्ता द्वारा आये दिन की जाने वाली टीका टिप्पणी से वह काफी आहत हो गया था, सबक सिखाने के लिये उसने योजना के मुताबिक दिनाॅक 3-12-2020 को किराये पर लिये हुये द्वारका परिसर स्थित फ्लैट-ए 3 को दिखाने के लिये जहाॅ पूर्व में 2-3 बार गौरव गुप्ता आ चुका था बुलाया,  गौरव गुप्ता के आते ही उसने दरवाजा बंद कर लिया और अंदर वाले कमरे मे ले जाकर 2-3 थप्पड़ मारे और जोर से धक्का दिया तो गौरव गुप्ता दीवाल से टकरा कर गिर गया, गिरते ही बैग में रखा चाकू निकालकर गर्दन में मारा जिससे कुछ ही देर मे गौरव गुप्ता की मृत्यु हो गयी तो मृत अवस्था में कमरे मे छोड़कर कालेज  एवं कालेज के बाद रांझी स्थित घर चला गया था,। दूसरे दिन सुबह किराये वाले फ्लैट पर पहुंचा एवं मृत अवस्था मे पड़े गौरव गुप्ता को रस्सी से बांध दिया तथा कमरे की धुलाई की एवं कंबल से पोछा, तथा रद्दी चौकी जाकर एक टीन की पेटी खरीद कर ला कर गौरव गुप्ता के शव को पेटी मे डाल कर बंद कर घर रांझी चला गया,और अगले दिन दिनाॅक 5-12-2020 को पुलिस द्वारा की जा रही पूछताछ के डर से कालेज नहीं गया, शव को ठिकाने लगाने के लिये हाउबाग स्टेशन तरफ गया और घटना को लेकर उपजे टैंशन के कारण दुकान से फिनाईल खरीद कर थोड़ा सा पी लिया, शेष बचा फिनाईल झाड़ियों में फेंक दिया, फिनाईल पीने के बाद आत्महत्या करने का सोच कर भेड़ाघाट एवं लम्हेटाघाट गया था जहाॅ से मन बदलने पर वापस किराये वाले फ्लैट पर पहुंचा तथा खून लगा कंबल, गौरव गुप्ता के जूते, मफलर, पिट्ठू बैग, आदि लेकर एक्सिस में लेकर हाउबाग स्टेशन मैदान मे जाकर छोड़कर पैदल  फ्लैट पहुंचा जहाॅ से अपनी मोटर सायकिल लेकर घबराहट होने पर शुभम अस्पताल में जाकर भर्ती हो गया।  

                       आरोपी चंदन सिंह की निशादेही पर पेटी मे रखा गौरव गुप्ता का शव, खून लगा चाकू रखा मिला,  एफएसएल टीम की उपस्थिति में पंचनामा  कार्यवाही कर शव को पीएम हेतु भिजवाते हुये खून लगा चाकू, मोबाईल, जैकिट, जप्त कर धारा 302, 201 भादवि का अपराध पंजीबद्ध कर आरोपी चंदन सिंह को प्रकरण में विधिवत गिरफ्तार कर मान्नीय न्यायालय के समक्ष पेश किया जा रहा है।

 उल्लेखनीय भूमिका :  अंधी हत्या का खुलासा कर थाना प्रभारी गोरखपुर सारिका पाण्डे, उप निरीक्षक सुमित मिश्रा, सहायक उप निरीक्षक रमाकांत द्विवेदी सहायक उप निरीक्षक बी.आर. चौधरी, आरक्षक संतोष जाट, रत्नेश राय की सराहनीय भूमिका रही।