भीमा कोरेगांव केस: स्टेन स्वामी की जमानत के लिए मुहिम, साथ आए 2500 से ज्यादा एक्टिविस्ट और शिक्षाविद - Jai Bharat Express

Breaking

भीमा कोरेगांव केस: स्टेन स्वामी की जमानत के लिए मुहिम, साथ आए 2500 से ज्यादा एक्टिविस्ट और शिक्षाविद

 


मुंबई: भीमा कोरेगांव हिंसा मामले में आरोपी बनाए गए 84 वर्षीय स्टेन स्वामी ने पिछले हफ्ते कोर्ट से जमानत मांगी थी, लेकिन उनकी याचिका खारिज कर दी गई। इसके बाद से उनके लिए फिर से आवाज उठनी शुरू हो गई है, जहां करीब 2500 सामाजिक कार्यकर्ताओं, शिक्षाविदों, कलाकारों ने उनकी जमानत के लिए अभियान चलाया है। साथ ही सभी ने हस्ताक्षर के साथ कोर्ट को पत्र लिखा है। स्वामी को पिछले साल अक्टूबर में रांची से गिरफ्तार किया गया था, जिसके बाद से वो नवी मुंबई की तलोजा जेल में बंद हैं।

भीमा कोरेगांव और एल्गार परिषद मामले में उनके खिलाफ कई केस दर्ज हैं। स्वामी के वकील के मुताबिक वो पार्किंसन समेत कई बीमारियों से ग्रसित हैं। इसके अलावा वो ठीक से सुन नहीं सकते। इसी आधार पर उन्होंने जमानत की मांग की थी। जमानत याचिका के साथ स्वामी के वकील ने उनके ऊपर से यूएपीए को हटाने की मांग की थी। जिस पर सुनवाई करते हुए एनआईए कोर्ट ने 22 मार्च को उसे खारिज कर दिया।


जिन लोगों ने जमानत का अभियान चलाया है, उन्होंने कहा कि बुजुर्ग और बीमार व्यक्ति की जमानत याचिका की अस्वीकृति समझ से परे है। वे स्वामी को एक असाधारण सौम्य, ईमानदार और निस्वार्थ व्यक्ति के रूप में जानते हैं। साथ ही उनके काम का सम्मान भी करते हैं। स्टेन स्वामी उन हजारों विचाराधीन कैदियों के प्रतीक हैं, जो सालों से यूएपीए के फर्जी आरोपों पर जेल में बंद हैं। वंचितों के अधिकारों के लिए संघर्ष करने वालों अथवा सरकार का विरोध करने वालों के विरुद्ध अक्सर यूएपीए को इस्तेमाल किया जाता है। ये सोचने की बात है कि यूएपीए मामलों में से नगण्य मामलों में ही दोष सिद्ध होता है। ऐसे में उन्हें जमानत मिलनी चाहिए।