इन पांच गलतियों की वजह से भारत ने गंवाया मैच, दूसरे वनडे में इंग्लैंड की जीत - Jai Bharat Express

Breaking

इन पांच गलतियों की वजह से भारत ने गंवाया मैच, दूसरे वनडे में इंग्लैंड की जीत



 भारत और इंग्लैंड के बीच खेले गए दूसरे वनडे मैच में मेहमान टीम ने अपने बल्लेबाजों के दम पर जीत हासिल की। जोस बटलर की कप्तानी में इंग्लैंड की टीम ने जोरदार वापसी करते हुए तीन मैचों की सीरीज में 1-1 की बराबरी कर ली। शुक्रवार को खेले गए इस मैच में इंग्लैंड के बल्लेबाज पूरी तरह से भारतीय गेंदबाजों पर हावी रहे और भारत के 337 रन के विशाल लक्ष्य को आसानी से हासिल कर लिया। भारतीय टीम ने यहां कई बड़ी गलतियां की और मैच गंवा बैठी, ऐसे में आइए जानते हैं टीम इंडिया द्वारा की गई गलतियों के बारे में...टॉस हारकर पहले बल्लेबाजी करने उतरी भारतीय टीम के लिए रोहित शर्मा और शिखर धवन की जोड़ी ने बेहद धीमी शुरुआत की। धवन जहां चौथे ही ओवर में 17 गेंदों में 4 रन बनाकर आउट हुए वहीं रोहित ने 25 गेंदों में 25 रन बनाए। दोनों ही खिलाड़ी पहले पावरप्ले में टीम के लिए रन नहीं जोड़ पाए और भारतीय टीम ने शुरू के 10 ओवर में दो विकेट खोकर 41 रन बनाए।

भुवनेश्वर कुमार और प्रसिद्ध कृष्णा की तेज गेंदबाजों की जोड़ी लगातार दूसरे मैच में पावरप्ले में विकेट निकालने में नाकाम रही। इंग्लैंड की तरफ से जॉनी बेयरस्टो और जेसन रॉय की जोड़ी ने लगातार दूसरी बार शतकीय साझेदारी की और पावरप्ले में भी खूब रन बनाए।
पुणे के इस स्टेडियम में खेले गए मुकाबले में भारतीय गेंदबाजी पूरी तरह से बिखरी नजर आई। इंग्लैंड के बल्लेबाजों ने भारतीय गेंदबाजों के खिलाफ जमकर रन बटोरे और मैदान की चारों तरफ से चौके-छक्के लगाए। इंग्लैंड के बल्लेबाजों ने 20 से अधिक छक्के लगाए जिसमें बेन स्टोक्स ने अकेले 10 छक्के जड़े।
भारतीय टीम ने इस मैच में सिर्फ पांच गेंदबाजों का ही इस्तेमाल किया। इसमें भी उसके पास कोई पांचवां स्पेशलिस्ट गेंदबाज नहीं था। हार्दिक पांड्या ने इस मैच में एक भी ओवर की गेंदबाजी नहीं की। जबकि उनके बड़े भाई क्रुणाल पांड्या पूरी तरह से फ्लॉप रहे 12 की इकॉनमी से रन लुटाए। उनके अलावा मुख्य स्पिनर कुलदीप यादव ने भी निराश किया और काफी महंगे साबित हुए।विराट कोहली की कप्तानी भी इस मैच में कमजोर नजर आई। वह अपने गेंदबाजों का सही से इस्तेमाल करने में असफल रहे। कुलदीप को लगातार गेंदबाजी देना और अपने गेंदबाजों को सही तरीके से रोटेट नहीं करना भी टीम के खिलाफ गया। यही नहीं एकदिवसीय मैच में चार प्रमुख गेंदबाजों के साथ उतरना भी टीम के लिए महंगा साबित हुआ।