Covid-19 Updates: आज फिर टूटे सभी रिकॉर्ड, बीते 24 घंटे में करीब 3 लाख 15 हजार नए केस, पहली बार 2100 से ज्यादा लोगों की मौत - Jai Bharat Express

Breaking

Covid-19 Updates: आज फिर टूटे सभी रिकॉर्ड, बीते 24 घंटे में करीब 3 लाख 15 हजार नए केस, पहली बार 2100 से ज्यादा लोगों की मौत



Coronavirus Live Updates 22 April, 2021: भारत में कोरोना हर दिन अपना रिकॉर्ड तोड़ रहा है. कोरोना पर काबू पाने के लिए देश के कई राज्यों में लॉकडाउन समेत कड़ी पाबंदियां लागू हैं. लेकिन बावजूद इनके हर दिन रिकॉर्ड नए केस सामने आ रहे हैं. देश में गुरुवार को भी एक बार फिर कोरोना ने सभी पुराने रिकॉर्ड को तोड़ दिया. बीते 24 घंटे में भारत में कोरोना के करीब 3 लाख 15 हजार नए केस सामने आए और इस दौरान 2100 से ज्यादा लोगों की मौत हुई. ऐसा पहली बार हुआ है, जब कोरोना से एक दिन में इतने लोगों की मौत हुई और इतने अधिक केस सामने आए. स्वास्थ्य मंत्रालय की तरफ से जारी ताजा आंकड़ों के मुताबिक बीते 24 घंटे में कोरोना के 3,14,835 नए मामले सामने आए और इस दौरान 2104 लोगों की मौत हो गई. इसके साथ ही देश में संक्रमितों का आंकड़ा बढ़कर 1,59,30,965 पहुंच गया है और अब तक 1,84,657 लोग इस जानलेवा वायरस के शिकार हो चुके हैं. भारत में कोरोना के अभी 22,91,428 एक्टिव मरीज हैं और 1,34,54,880 मरीज इलाज के बाद ठीक हो चुके हैं.
देश में बेकाबू हुआ कोरोना
महामारी की शुरुआत से लेकर अब तक एक दिन में संक्रमितों की यह संख्या पूरी दुनिया में सबसे ज्यादा है. इसके पहले विश्व में एक दिन में सर्वाधिक नए संक्रमित अमेरिका में आए थे. अमेरिका में बीते 8 जनवरी को महज एक दिन में 3 लाख 7 हजार से ज्यादा संक्रमित मरीज मिले थे. लेकिन अब इस मामले में भारत सबसे आगे निकल गया है.
महाराष्ट्र देश में कोरोना से सबसे ज्यादा प्रभावित है. महाराष्ट्र में एक दिन पहले 67,468 नए संक्रमित मिले. इसके बाद उत्तर प्रदेश में 33,106, दिल्ली में 24638, कर्नाटक में 23558, केरल में 22414 और छत्तीसगढ़ में 14519, बिहार में 12,222 नए मामले सामने आए.
महाराष्ट्र में कोरोना से बचाव के लिए आज रात 8 बजे से 1 मई तक कड़ी पाबंदियां लगाई गई हैं. इसे लॉकडाउन का नाम नहीं दिया गया है, हालांकि प्रतिबंध लॉकडाउन जैसे ही हैं. महाराष्ट्र में नई पाबंदियां लगने के बाद शहरों के बीच और एक जिले से दूसरे जिले में यात्रा पर रोक रहेगी. हालांकि अगर वाजिब कारण होगा तो जाने दिया जाएगा.
झारखंड में भी आज से अगले एक हफ्ते का लॉकडाउन लगाया गया है. जरूरी सेवाओं को छोड़कर वहां सभी गतिविधियों पर पाबंदी लगाई गई है.
इस बीच, महाराष्ट्र समेत कई राज्य मेडिकल ऑक्सीजन की कमी से जूझ रहे हैं. महाराष्ट्र में ऑक्सीजन स्टोरेज टैंक में रिसाव के कारण दम घुटने से वेंटिलेटर पर मौजूद 22 रोगियों की मौत हो गई.
वहीं, उत्तर प्रदेश और असम के बाद मध्य प्रदेश, बिहार और छतीसगढ़ ने भी 18 वर्ष से अधिक आयु के लोगों को नि:शुल्क टीका लगाने की घोषणा की है.
इसके अलावा अधिकारियों ने आंकड़े पेश किये हैं, जिनमें कहा गया है कि टीकों से संक्रमण का खतरा कम हो जाता है. साथ ही मौत और गंभीर संक्रमण से बचा जा सकता है.
नीति आयोग के सदस्य (स्वास्थ्य) डॉ वी के पॉल ने संवाददाता सम्मेलन में राज्यों, अस्पतालों और कई नर्सिंग होम से अपील की कि ऑक्सीजन का समुचित उपयोग सुनिश्चित करें क्योंकि यह कोरोना वायरस संक्रमित रोगियों के लिए ‘जीवन रक्षक’ है.
केंद्र ने कहा कि देश में 7,500 मीट्रिक टन ऑक्सीजन का उत्पादन किया जा रहा है और 6,600 मीट्रिक टन ऑक्सीजन राज्यों को आवंटित किया जा रहा है. केंद्र ने केंद्र शासित प्रदेशों और राज्य सरकारों से महामारी द्वारा पेश की गईं चुनौतियों से निपटने के लिये साथ मिलकर काम करने के लिये कहा.
दिल्ली, हरियाणा, पंजाब, राजस्थान और महाराष्ट्र के बीच ऑक्सीजन के वितरण को लेकर आरोप-प्रत्यारोप देखने को मिल रहा है. ये सभी राज्य अपने कोटे की ऑक्सीजन बढ़ाने की मांग कर रहे हैं.