भाजपा के और नेताओं ने टीएमसी में शामिल होने की इच्छा व्यक्त की - Jai Bharat Express

Breaking

भाजपा के और नेताओं ने टीएमसी में शामिल होने की इच्छा व्यक्त की



कोलकाता। सोनाली गुहा के बाद, चुनाव से पहले तृणमूल कांग्रेस छोड़ने वाले भाजपा के और नेताओं ने अपनी पिछली पार्टी में लौटने की इच्छा व्यक्त की है। हालांकि पार्टी ने अभी इन नेताओं पर अपना रुख स्पष्ट नहीं किया है, लेकिन भाजपा ने पहले ही कहा है कि इससे राज्य में पार्टी के प्रदर्शन पर कोई असर नहीं पड़ेगा। सरला मुर्मू को हबीबपुर विधानसभा क्षेत्र के लिए टिकट दिया गया था। हालांकि वह भाजपा में यह कहते हुए शामिल हो गईं थी कि जिला नेतृत्व उन्हें काम नहीं करने दे रहा है। हालांकि पार्टी के सूत्रों का कहना है कि उन्होंने पार्टी इसलिए छोड़ी क्योंकि वह मालदा साउथ से चुनाव लड़ना चाहती थीं। मुर्मू ने रविवार को मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को एक पत्र लिखकर पार्टी में शामिल होने की इच्छा व्यक्त की। हालांकि, पार्टी की ओर से अभी तक इस पत्र की कोई आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है।
मीडिया से बात करते हुए मुर्मू ने कहा, "मैं हमेशा से तृणमूल कांग्रेस की कार्यकर्ता थी और अपनी मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के नेतृत्व में काम करना चाहती हूं। बीजेपी में जाने का यह एक भावनात्मक फैसला था और मुझे इसका एहसास हो गया है। भाजपा में काम करने के लिए कोई जगह नहीं है। भाजपा में और मैं तृणमूल कांग्रेस में वापस लौटना चाहती हूं।"

न केवल मुर्मू बल्कि उत्तर दिनाजपुर के इटाहर से दो बार के विधायक ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया था और इस बार टिकट से वंचित होने के बाद भाजपा में शामिल हो गए।

आचार्य ने कहा, "मैं बीजेपी में शामिल हो गया था लेकिन मैंने काम नहीं किया। ज्यादातर समय मैं घर पर था और अब मैं फिर से तृणमूल कांग्रेस में शामिल होना चाहता हूं। उम्मीद है कि पार्टी मेरी गलती माफ कर देगी और मुझे काम करने का मौका देगी।"

सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस ने हालांकि इस पर कोई टिप्पणी नहीं की।

तृणमूल कांग्रेस के प्रवक्ता कुणाल घोष ने कहा, " 6 विधायकों और 3 सांसदों सहित कई लोग वापस आना चाहते हैं। जब पार्टी समस्या में थी तब उन्होंने पार्टी छोड़ दी थी और अब, वे वापस आना चाहते हैं। मैं इस पर कोई टिप्पणी नहीं कर सकता क्योंकि कोई फैसला नहीं लिया गया है। पार्टी इन लोगों का भविष्य तय करेगी।"

हालांकि, भाजपा इस पलायन को लेकर ज्यादा चिंतित नहीं है।

भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष ने कहा, "चुनाव से पहले इन लोगों ने सोचा था कि भाजपा सत्ता में आएगी और इसलिए वे पार्टी में शामिल हो गए और अब वे छोड़ना चाहते हैं। हमारी पार्टी एक बहुत बड़ी पार्टी है और इस तरह की पार्टी में शामिल होना और छोड़ना चलता रहता है। इसलिए, हमारे पास कहने के लिए कुछ नहीं है इस पर। अगर वे छोड़ना चाहते हैं, तो वे जा सकते हैं।"