जिले के 55 परीक्षा केन्द्रों में होगी एम.पी.पी.एस.सी. की प्रारंभिक परीक्षा कोविड परीक्षार्थियों के लिए बने तीन अलग परीक्षा केन्द्र - Jai Bharat Express

Breaking

जिले के 55 परीक्षा केन्द्रों में होगी एम.पी.पी.एस.सी. की प्रारंभिक परीक्षा कोविड परीक्षार्थियों के लिए बने तीन अलग परीक्षा केन्द्र


जिले के 55 परीक्षा केन्द्रों में होगी एम.पी.पी.एस.सी. की प्रारंभिक परीक्षा कोविड परीक्षार्थियों के लिए बने तीन अलग परीक्षा केन्द्र।


जबलपुर |मध्यप्रदेश लोक सेवा आयोग द्वारा 25 जुलाई को आयोजित होने वाली राज्य सेवा प्रारंभिक परीक्षा एवं वन सेवा परीक्षा जबलपुर शहर के 55 परीक्षा केन्द्रों में आयोजित की जायेगी। इसमें 52 सामान्य परीक्षा केन्द्र के अलावा 3 विशेष परीक्षा केन्द्र कोविड पॉजीटिव परीक्षार्थियों के लिए बनाये गये हैं।

संभागायुक्त बी. चंद्रशेखर ने कलेक्टर को निर्देशित किया है कि कोरोना संक्रमण को देखते हुए मध्यप्रदेश लोकसेवा आयोग की परीक्षा के दौरान कोरोना संक्रमित छात्रों के लिए अलग से बनाये गये तीन परीक्षा केन्द्रों में कोविड प्रोटोकॉल के तहत सभी जरूरी व्यवस्थायें की जायें। कोविड संक्रमित अभ्यर्थी अपनी कोविड संक्रमण की सूचना व जानकारी संभागायुक्त कार्यालय के अधीक्षक कक्ष के दूरभाष नंबर 0761-2970171 पर दर्ज करा सकते हैं। ताकि कोविड संक्रमित अभ्यार्थियों की बैठक व्यवस्था कोविड परीक्षा केन्द्र में की जा सके।

मप्र लोक सेवा आयोग की परीक्षा की समाप्ति तक संभागायुक्त कार्यालय के अधीक्षक कक्ष को कोविड कंट्रोल रूम बनाया गया है। जिससे कोविड से संबंधित परीक्षार्थियों की जानकारी संग्रहित कर उनके बैठने की व्यवस्था निर्धारित परीक्षा केन्द्र में की जा सके। 

संभागायुक्त श्री चंद्रशेखर ने क्षेत्रीय संचालक स्वास्थ्य सेवायें को निर्देशित किया है कि कोविड अभ्यार्थियों हेतु तय परीक्षा केन्द्रों में थर्मल स्केनिंग, पीपीई किट, सेनेटाइजर की व्यवस्था सहित डॉक्टर्स व नर्सों की ड्यूटी लगाना सुनिश्चित करें। साथ ही कोरोना प्रभावित परीक्षार्थियों को परीक्षा के एक घंटे पहले परीक्षा केन्द्र तक लाने की व्यवस्था सुनिश्चित की जाए। यदि कोई परीक्षार्थी परीक्षा दिवस को भी कोरोना पॉजीटिव हो जाता है तो उससे भी प्रारूप भरवाकर उसे कोरोना परीक्षार्थियों के लिए बनाये गये विशेष परीक्षा केन्द्र में स्थानांतरित किये जाने की पहले से तैयारी सुनिश्चित की जाये। 

इसके अलावा प्रत्येक परीक्षा केन्द्र पर एक-एक आइसोलेशन कक्ष भी बनाया जाये। ताकि बुखार, सर्दी-खांसी से प्रभावित अभ्यार्थियों को अलग बैठाया जा सके। इसके लिए डॉक्टर्स व नर्सों की भी ड्यूटी लगाई जाए।