मर्सडीज कार सस्ते दाम में दिलवाने के नाम पर थोक दवा व्यवसायी को लगाई करोड़ो की चपत - Jai Bharat Express

Breaking

मर्सडीज कार सस्ते दाम में दिलवाने के नाम पर थोक दवा व्यवसायी को लगाई करोड़ो की चपत

मर्सडीज कार सस्ते दाम में दिलवाने के नाम पर 1 करोड़ 40 लाख रूपये की ठगी करने वाले आरोपियों के विरूद्ध धोखाधड़ी का प्रकरण दर्ज।


जबलपुर
| मर्सडीज कार सस्ते दाम में दिलवाने के नाम पर 1 करोड़ 40 लाख रूपये की ठगी करने वाले आरोपियों के विरूद्ध पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर लिया है। थोक दवा व्यवसायी नरेश माधवानी उम्र लगभग 51 वर्ष , निवासी  आदर्श नगर ग्वारीघाट रोड, गोरखपुर, ने पुलिस से शिकायत की कि वह बी.एम.डब्ल्यू. फार्मेको इंडिया प्रायवेट लिमिटेड एवं एटलटिस फार्मूलेसन के नाम से थोक दवा व्यवसाय का कार्य करता है, उसने अपनी कार के विक्रय हेतु कारवाला डाॅटकम बेवसाइड मे विक्रय हेतु विज्ञापन दिया था, तब उसकी पहचान एडवांस कार स्टूडियो के नाम से कार क्रय विक्रय करने वाले दीपक कुमार बैठा पिता स्व. श्री गंगाराम बैठा हाल निवासी ए-67, ग्रेटर कैलाश -2, नई दिल्ली से कार विक्रय एवं क्रय करने की बात हुई थी, दीपक ने उसकी कार जैगवार एफ टाइफ का विक्रय कराया था, एवं उसेे अन्य कार न्यू माडल मर्सडीज 560 मुम्बई रजिस्टर्ड अच्छी कंडीशन मे सस्ते दामो पर दिलाने का भरोसा दिलाया था, मर्सडीज कार की कीमत उसे दीपक ने 1 करोड 50 लाख रुपये बताई थी, बाद मे 1 करोड़ 40 लाख रुपये मे देने की बात हुई, दीपक ने कहा कि मैं दिल्ली से बाई रोड मुम्बई जा रहा हूँ अगर आपके पास रकम है, तो मैं उसे कलेक्ट करते हुए कार का बयाना देकर कार को होल्ड करवा दूंगा अन्यथा कार बिक जायेगी, तब दीपक अपने साथी नीरज कुमार के साथ उसके घर आदर्श नगर आया था,और उसने बयाना हेतु 10 लाख रूपये नगद गिनवाकर दिये थे, उसके बाद दीपक से उसकी मोबाईल पर आये दिन बातचीत होती रहती थी। दीपक ने कार होल्ड करवाकर बकाया रकम प्राप्त होने के 45 से 50 दिन के बाद ही कार की डिलेवरी देने की बात कंपनी के अधिकारी से कान्फ्रेंसिंग में बात करवाकर कही थी, जिस पर उसनेे आर.टी.जी.एस. के माध्यम से अपने अलग- अलग  बैंक खातों से राशि ट्रांसफर किया था, दीपक एवं नीरज ने खाते के माध्यम से दिनांक 20,03.2021 तक उससे 1 करोड 10 लाख तेरह हजार रूपये  प्राप्त कर चुके थे, दिनांक 31.03.2021 को दीपक जबलपुर में आया था एवं होटल विजन महल तिलहरी में रूकना बताकर 29 लाख 87 हजार रूपये उसके घर आकर ले गया था। उस समय उसके घर पर परिवार के सदस्य एवं परिचित सुरेश खत्री भी उपस्थित थे। जिन्होंने उसे चेताया कि इतनी बड़ी रकम किस विश्वास पर आप दीपक जी को दे रहे हो तब दीपक ने अपना वोटर आई.डी. कार्ड एवं अपना बिजिटिंग कार्ड दिखाया एवं वोटर आई.डी. कार्ड की छायाप्रति भी उसे दिया एवं बोला की मैं ऐसा वैसा आदमी नही हूँ मेरी भी दिल्ली में प्रायवेट लिमिटेड फर्म है एवं फ्लाईट से मेरा आना जाना होता है, और आज भी मैं प्लेन से आया हूँ और होटल में मेरी आई.डी जमा है,इस विश्वास पर उसने दीपक को नगद रकम प्रदान किया था, दीपक के बताये हुए समय पर कार की डिलेवरी न मिलने पर दीपक से फोन पर बातचीत होती रहती थी, जिस पर वह टाल मटोल करता रहा एवं कोरोना महामारी के कारण लाकडाउन होने से आवागमन भी अवरूद्ध था। लाकडाउन के बाद भी गाड़ी न मिलने पर एवं रकम वापसी न होने पर दिनांक 09.06.2021 को वह स्वयं अपने साथी इंदरजीत सिंह के साथ फ्लाईट से दिल्ली दीपक एवं नीरज से रकम वापस लेने गया था, जहाॅ उनके निवास व्यवसाय स्थल पर ताला लगा मिला सिक्युरिटी गार्ड से जानकारी लगी की उपरोक्त व्यक्ति कई लोगों के साथ धोखाधड़ी व फर्जी दस्तावेजों पहचान पत्र , पेन कार्ड , आधार कार्ड , निवास प्रमाण पत्र के आधार पर एवं छदम नामों से ठगी का व्यवसाय करते है एवं करोडो रूपयो की रकम हड़प लेते है, फर्जी तरीके से अपनी वास्तविक लोकेशन छिपाकर विदेशो की लोकेशन बताते है।

दीपक एवं नीरज ने अपने अन्य साथियों के साथ मिलकर सस्ते में मर्सडीज कार दिलाने का प्रलोभन देकर उससे 1 करोड़ चालीस लाख रूपये की राशि हड़पते हुये उसके साथ ठगी की है।

पुलिस अधीक्षक जबलुपर  सिद्धार्थ बहुगुणा द्वारा तत्काल वैधानिक कार्यवाही किये जाने हेतु आदेशित किये जाने पर शिकायत जांच पर दीपक कुमार पिता स्व. गंगाराम निवासी एस 67 ग्रेटर कैलाश 02 नई दिल्ली एवं  साथी नीरज कुमार के विरुद्ध अप.क्रं. 421/2021  धारा 420,34 भा.द.वि. का अपराध पंजीबद्ध कर आरोपियों की सरगर्मी से तलाश जारी है।