बॉम्बे हाईकोर्ट कंगना रनौत के ऑफि‍स में तोड़फोड़ को लेकर सुनवाई 22 सितंबर को - Jai Bharat Express

Breaking

बॉम्बे हाईकोर्ट कंगना रनौत के ऑफि‍स में तोड़फोड़ को लेकर सुनवाई 22 सितंबर को


बॉम्बे हाईकोर्ट ने बॉलीवुड की क्वीन कंगना रनौत (kangana Ranaut) के ऑफि‍स में तोड़फोड़ को लेकर सुनवाई में 22 सितंबर की तारीख दी है. इस सुनवाई में बीएमसी के वकील ने कहा कि कोर्ट के आदेश के बाद बीएमसी का काम रुक गया, लेकिन ध्यान दिया जाना चाहिए कि इसमें बदलाव न हो. इसके बाद कंगना रनौत के वकील रिजवान सिद्दीकी ने कोर्ट में कहा कि कई सारे तथ्यों को ऑन रिकॉर्ड लाने की आवश्यकता है. फाइल तैयार करने के लिए मुझे समय चाहिए, क्योंकि मेरी क्लाइंट अभी मुंबई आई हैं.
BMC के वकील ने जवाब में कहा कि ये लोग मान रहे हैं कि सोमवार तक इन्होंने अपने प्लान में बदलाव कर लिए थे. कंगना के वकील रिजवान सिद्दीकी को बदलवा की हुई पेटीशन पेश करनी होगी. इसके बाद वकील सिद्दीकी ने यह भी कहा कि कंगना रनौत के घर पानी और बिजली नहीं है. बीएमसी के वकील ने कोर्ट से 3 से 4 दिन का समय जवाब देने के लिए मांगा है. इसके चलते कोर्ट ने 22 सितंबर का दिन अगली सुनवाई के लिए दिया. साथ ही यह भी कहा है कि अब 22 सितंबर तक कंगना के दफ्तर में कोई तोड़फोड़ नहीं की जाएगी.
आपको बता दें कि कंगना ने बीएमसी पर गैर कानूनी ढंग से तोड़फोड़ का आरोप लगाते हुए बॉम्बे हाई कोर्ट में याचिका दर्ज करवाई थी. कंगना 9 सितंबर को मुंबई वापस लौटीं तो वहीं BMC ने उनके दफ्तर में तोड़फोड़ की थी. ऐसे में कंगना रनौत ने अपनी नाराजगी जताते हुए वीडियो शेयर किया था.
गौरतलब है कि कंगना रनौत ने ट्वीट में एक वीडियो जारी कर कहा था कि उद्धव ठाकरे तू क्या समझता है कि तुमने फिल्म माफिया के साथ मिलकर मेरा घर तोड़कर बहुत अच्छा काम किया है. आज मेरा घर टूटा है कल तेरा घमंड टूटेगा. ये वक्त का पहिया है याद रखना. हमेशा एक जैसा नहीं रहता है.
उन्होंने आगे कहा कि अब मुझे लगता है कि तुमने मेरे ऊपर बड़ा एहसान किया है, क्योंकि मुझे पता था कि कश्मीरी पंडितों पर क्या बीतती होगी. आज मैंने महसूस किया और मैं देश को वचन दूती हूं कि मैं सिर्फ अयोध्या पर ही नहीं, बल्कि कश्मीर पर भी एक फिल्म बनाऊंगी और अपने देशवासियों को जगाऊंगी.
अभिनेत्री कंगना ने कहा कि मुझे पता था ये हमारे साथ होगा तो होगा. लेकिन मेरे साथ हुआ इसका कोई मतलब है कि इसके कोई मायने हैं और उद्धव ठाकरे ये जो क्रुरता और आतंक है, अच्छा हुआ ये मेरे साथ हुआ, क्योंकि इसके कुछ मायने हैं. जय हिंद, जय महाराष्ट्र. इस दौरान उन्होंने ट्वीट में लिखा- तुमने जो किया अच्छा किया.