कोरोना के बढ़ते मामलों को देखकर क्या दिल्ली में फिर लागू होगा Lockdown? जानिये स्वास्थ्य मंत्री का जवाब... - Jai Bharat Express

Breaking

कोरोना के बढ़ते मामलों को देखकर क्या दिल्ली में फिर लागू होगा Lockdown? जानिये स्वास्थ्य मंत्री का जवाब...

Delhi Lockdown News: देश में कोरोना का कहर जारी है. भारत में कोरोना वायरस (Coronavirus) से अब तक 47 हजार से ज्यादा लोग संक्रमित हैं वहीं, 78 हजार से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है. इस बीच देश की राजधानी दिल्ली में कोरोना के मामले फिर से बढ़ रहे (Delhi Coronavirus News) हैं. बीते कई दिनों से 4 हजार से ज्यादा नए केस सामने आ रहे हैं. इस बीच कयासों का बाजार इस बात को लेकर भी गर्म हो गया था कि क्या केजरीवाल सरकार राष्ट्रीय राजधानी में एक फिर से लॉकडाउन लग सकती है?
दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री से प्रेस कॉन्फ्रेंस में जब फिर से लॉकडाउन को लेकर सवाल किए गए तो उन्होंने ऐसी किसी भी संभावना से इनकार कर दिया. उन्होंने कहा कि अब लॉकडाउन (Delhi Lockdown) का समय निकल चुका है. उन्होंने कहा कि अगर आप मास्क लगाते हैं और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हैं तो आप कोरोना से बच सकते हैं.
इसके अलावा सत्येंद्र जैन ने कहा कि दिल्ली के 33 बड़े अस्पतालों के 80 फीसदी ICU बेड कोरोना मरीजों के लिए आरक्षित किए गए हैं. दिल्ली सरकार ने शनिवार को अस्पतालों के साथ बैठक के बाद इसको लेकर आदेश जारी किया है. उन्होंने कहा कि अस्पतालों को अपने 80% ICU बेड्स कोरोना मरीजों के लिए रिज़र्व रखने होंगे. इसके साथ-साथ अस्पताल को 30 फीसदी बेड बढ़ाने की छूट भी दी गई है.
बता दें कि दिल्ली में शनिवार को एक दिन में सर्वाधिक 4,321 लोगों में कोरोना वायरस का संक्रमण पाया गया और 28 संक्रमितों की मौत हुई. दिल्ली सरकार के स्वास्थ्य बुलेटिन के मुताबिक, राष्ट्रीय राजधानी में कुल मामले 2.14 लाख पहुंच गए हैं जबकि मृतक संख्या 4,715 हो गई है. राष्ट्रीय राजधानी में लगातार चार दिनों से 4,000 से अधिक नए मरीज सामने आ रहे हैं. पिछले 24 घंटे में 60,076 नमूनों की जांच की गई है. दिल्ली में फिलहाल 28,509 मरीजों का इलाज चल रहा है.
दिल्ली में संक्रमित होने की दर 7.19 प्रतिशत जबकि मृत्यु दर 2.2 प्रतिशत है जबकि संक्रमण से ठीक होने की दर 84 प्रतिशत है. स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने जांचों की स्थिति की समीक्षा करने के लिए दिल्ली के सभी सरकारी अस्पतालों के चिकित्सा निदेशकों और अधीक्षकों के साथ बैठक की. अब तक कुल 1,81,295 मरीज संक्रमण से ठीक हो चुके हैं.