नशीली गोलियों के कारोबार में लिप्त आरोपी गिरफ्तार, 5400 नशीली गोलियाॅ जप्त - Jai Bharat Express

Breaking

नशीली गोलियों के कारोबार में लिप्त आरोपी गिरफ्तार, 5400 नशीली गोलियाॅ जप्त

 





जबलपुर |  थाना हनुमानताल की टीम को एक आरोपी को 5400 नशीली गोलियों के साथ गिरफ्तार करने मे सफलता प्राप्त हुई है।

                थाना प्रभारी हनुमानताल उमेश गोल्हानी ने बताया कि दिनांक 23-1-21 की शाम विश्वसनीय मुखबिर से सूचना मिली कि एक व्यक्ति जो आसमानी धारीदार शर्ट एवं काला पेंट पहने हैं हल्के बैंगनी रंग के झोला मे नशीली गोलियाॅ रखकर  विक्रय करने के आशय से अपने पास रखे है जो उपहति कारित करने के उद्देश्य से नशे की गोलियां  आपराधिक प्रवृति के लोगों को देकर अपराध करवाता है एवं सीधे सादे लोगों केा धोखे से इन नशीली गोलियों का डोज देकर उनके साथ सम्पत्ति संबंधी अपराध घटित करता है तथा जान बूझकर नशा करने वाली नशीली गोलियां  उपहति कारित करने के उद्देश्य से लोगों को धोखे से देता है जो आज नशीली गोलियां बेचने के लिये फूटाताल मैदान में खड़ा है सूचना पर मुखबिर के बताये स्थान पर दबिश दी गयी जहां मुखबिर के बताये हुलिये का एक व्यक्ति पुलिस को देखकर भागने लगा जिसे घेराबंदी कर पकड़ा गया, नाम पता पूछने पर अपना नाम देवीसिंह ठाकुर उम्र्र 50 वर्ष निवासी त्रिमूर्तिनगर कृष्णा कालोनी गोहलपुर का रहने वाला बताया, जिसे मुखबिर की सूचना से अवगत कराते हुये  तलाशी लेने पर दाहिने हाथ में रखे हल्के बैंगनी रंग के झौले में  9 पैकेट में गोलिया रखी मिली जिस पर डाईजेपाम टेबलेटसिप डाईजिप .10 एवं नीचे इनटास अंग्रेजी शब्दों मे लिखा है प्रत्येक पैकिट में गोलियों की 60 स्ट्रिप है, प्रत्येक स्ट्रिप में 10 गोलियां है एव प्रत्येक स्ट्रिप की कीमत 18 रूपये हैं, इस प्रकार 9 पैकेट में 5400 गोलियां हैं जिसकी  कीमत 9 हजार 720 रूपये हैं जप्त करते हुये देवी सिंह  द्वारा यह जानते हुये की नशे के लिये इस नशीली गोलियों के सेवन से मृत्यु भी हो सकती है विक्रय करने हेतु रखे मिलने पर धारा 328 भादवि एवं 5/13 म.प्र.औषधी नियंत्रण अधिनियम के तहत कार्यवाही कर उक्त गोलियाॅ कहाॅ से और कैसे प्राप्त की के सम्बंध मे पूछताछ जारी है।

उल्लेखनीय भूमिका -  एक आरोपी को नशे की गोलियों के साथ रंगे हाथ पकड़ने में उप निरीक्षक प्रभाकर सिंह, आरक्षक रामजी पाण्डे, महेन्द्र विष्ठ, चन्द्रभान सिंह, समरेन्द्र, महिला आरक्षक रूबी गौतम की सराहनीय भूमिका रही।