Holi 2021 Dhruv Yog: होली पर इस साल बनने जा रहा है ध्रुव योग, जानें किस शुभ मुहूर्त पर करें पूजा - Jai Bharat Express

Breaking

Holi 2021 Dhruv Yog: होली पर इस साल बनने जा रहा है ध्रुव योग, जानें किस शुभ मुहूर्त पर करें पूजा

 


Holi 2021 Dhruv Yog: होली का त्योहार फाल्गुन माह में मनाया जाता है. इस साल होली 29 मार्च 2021 को मनाई जाएगी. यह पर्व हिंदू पंचांग के अनुसार फाल्गुन मास की पूर्णिमा को मनाया जाता है. होली भारत के प्रसिद्ध त्योहारों में से एक है. होली (Holi 2021 ) से एक दिन पहले होलिका दहन (Holika Dahan) होता है. होली के दिन लोग एक दूसरे को रंग लगाते हैं और गले मिलते है।


ऐसे में इस साल होली पर ध्रुव योग (Holi Dhruv Yog) बनने जा रहा है. होली के दिन चंद्रमा कन्या राशि में गोचर करेगा. साथ ही मकर राशि में गुरु और शनि विराजमान होंगे. शुक्र और सूर्य मीन राशि में रहेंगे. मंगल और राहु वृषभ राशि, बुध कुंभ राशि और मोक्ष के कारण केतु वृश्चिक राशि में विराजमान होंगे. इस योग के कारण इस साल होली का खास महत्व माना जा रहा है।


होली शुभ मुहूर्त (Holi 2021 Shubh Muhurat)

होलिका दहन रविवार, मार्च 28, 2021 को
होलिका दहन मुहूर्त – 18:37 से 20:56
पूर्णिमा तिथि प्रारम्भ – मार्च 28, 2021 को 03:27 बजे
पूर्णिमा तिथि समाप्त – मार्च 29, 2021 को 00:17 बजे

होलिका दहन की मुख्य कथा

होली से सम्बन्धित मुख्य कथा के अनुसार एक नगर में हिरण्यकश्यप नाम का दानव राजा रहता था. वह सभी को अपनी पूजा करने को कहता था, लेकिन उसका पुत्र प्रह्लाद भगवान विष्णु का उपासक भक्त था. हिरण्यकश्यप ने भक्त प्रहलाद को बुलाकर राम का नाम न जपने को कहा तो प्रहलाद ने स्पष्ट रूप से कहा, पिताजी! परमात्मा ही समर्थ है. प्रत्येक कष्ट से परमात्मा ही बचा सकता है. मानव समर्थ नहीं है. यदि कोई भक्त साधना करके कुछ शक्ति परमात्मा से प्राप्त कर लेता है तो वह सामान्य व्यक्तियों में तो उत्तम हो जाता है, परंतु परमात्मा से उत्तम नहीं हो सकता.

यह बात सुनकर अहंकारी हिरण्यकश्यप क्रोध से लाल पीला हो गया और नौकरों सिपाहियों से बोला कि इसको ले जाओ मेरी आँखों के सामने से और जंगल में सर्पों में डाल आओ. सर्प के डसने से यह मर जाएगा. ऐसा ही किया गया. परंतु प्रहलाद मरा नहीं, क्योंकि सर्पों ने डसा नहीं.