सावधान: सबसे बड़े डेटा लीक की तैयारी, 10 करोड़ भारतीयों का पेर्सनल डेटा बिकने के लिए तैयार - Jai Bharat Express

Breaking

सावधान: सबसे बड़े डेटा लीक की तैयारी, 10 करोड़ भारतीयों का पेर्सनल डेटा बिकने के लिए तैयार

 


मोबिक्विक डेटा लीक – मोबाइल से लेनदेन करने वालो को सतर्क रहने की जरुरत हैं। साइबर सिक्योरिटी शोधकर्ता राजशेखर राजहारिया और फ्रांसीसी साइबर सुरक्षा विशेषज्ञ इलियट एंडरसन का दावा है कि 100 मिलियन भारतीयों के निजी डेटा को हैकर फोरम डार्क वेब पर बेचने के लिए डाला गया है।

उन्होंने कहा कि पेमेंट ऐप को पहले भी सावधान किया

था, लेकिन उन्होने इसपर कोई ध्यान नही दिया। हैकर समूह 26 मार्च से लीक हुए डेटा को ऑनलाइन बेच रहे हैं।

हैकर ग्रुप की एक पोस्ट के मुताबिक डेटा को 1.5 बिटकॉइन (लगभग 63 लाख रुपये) में डेटा बेचा जा रहा

है। डार्क वेब पर साझा किए गए इस डेटा का आकार लगभग 350 जीबी है। बताया जा रहा है कि यह

पेमेंट प्लेटफॉर्म मोबिक्विक से लीक हुआ है। देश में मोबिक्विक के 12 मिलियन से अधिक उपयोगकर्ता हैं।

मोबिक्विक ने कहा कि डेटा हमसे लिक नही हुआ हैं

मोबिक्विक ने अपने ब्लॉग में लिखा, “कुछ उपयोगकर्ताओं ने कहा है कि उनका डेटा डार्क वेब पर है।” उपयोगकर्ता कई प्लेटफार्मों पर अपना डेटा साझा करते हैं। ऐसे में यह कहना गलत है कि उनका डेटा हमसे लीक हुआ है। ऐप से लेनदेन पूरी तरह से सुरक्षित है और ओटीपी आधारित है।
‘यह मामला पिछले महीने सामने आया था, तब कंपनी ने बाहरी सुरक्षा विशेषज्ञों की मदद से पूरी जांच की। किसी भी वॉयलेशन का कोई सबूत नहीं मिला। कंपनी अत्यंत सावधानी के साथ सुरक्षा प्रोटोकॉल का पालन करती है। ‘

जीपीएस लोकेशन, क्रेडिट-डेबिट कार्ड नंबर भी लीक हो गया

सेल में जो डेटा बेचने के लिए उपलब्ध कराया गया है, उसमें 9.9 करोड़ मेल, , फोन पासवर्ड्स, एड्रेस और

इंस्टाल्ड ऐप्स डेटा, आईपी एड्रेस और जीपीएस लोकेशन जैसे डेटा शामिल हैं। इन सबके अलावा, इसमें

पासपोर्ट विवरण, पैन कार्ड विवरण, क्रेडिट कार्ड नंबर, डेबिट कार्ड नंबर और आधार कार्ड विवरण भी शामिल हैं।

इतिहास का सबसे बड़ा डेटा लीक

राजशेखर के अलावा, पेमेंट ऐप के इस कथित डेटा लीक का दावा फ्रांसीसी साइबर सुरक्षा विशेषज्ञ इलियट एंडरसन ने भी किया है। इलियट एंडरसन ने 29 मार्च को एक ट्वीट में खुलासा किया कि यह संभवतः इतिहास का सबसे बड़ा डेटा लीक हैं।