देखें VIDEO - 30 अप्रैल तक बस सुविधा बंद रहेगी। स्कूल अभी नहीं खोले जाएंगे, - Jai Bharat Express

Breaking

देखें VIDEO - 30 अप्रैल तक बस सुविधा बंद रहेगी। स्कूल अभी नहीं खोले जाएंगे,

 


भोपाल, मध्यप्रदेश।
 प्रदेश में वैश्विक महामारी कोरोना का संक्रमण स्तर जहां कम होने का नाम नहीं ले रहा है वहीं दूसरी तरफ संक्रमण को काबू में लाने के प्रयास किए जा रहे है। संक्रमण प्रभावी जिलों में नाइट कर्फ्यू और रविवार को लॉकडाउन लगाने के बावजूद भी स्थिति बिगड़ रही है इसे लेकर ही बीते दिन समीक्षा बैठक की गई थी। इसे लेकर आज मीडिया के समक्ष प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बयान जारी किए है।

बैठक में सीएम चौहान 3 मुद्दों पर करेंगे फोकस

इस संबंध में, प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मीडिया के समक्ष बयान देते हुए कहा कि, कोरोना के बढ़ते प्रभाव को कम करने के लिए आज समस्त कमिश्नर, कलेक्टर, आईजी, एसपी, सीएमएचओ, जिला पंचायत की वर्चुअल मीटिंग बुलाई है। जिसके तहत विशेषकर 3 मुद्दों पर फोकस किया जाएगा। जिसमें कोविड19 के संक्रमण को रोकने के प्रयास, IITT रणनीति की हम रिव्यू करेंगे, आवश्यक व्यवस्थाओं और वैक्सीनेशन पर हमारा बल होगा।

अब 30 अप्रैल तक नहीं चलेगी महाराष्ट्र से लगे जिलों में बसें

इस संबंध में आगे बताया कि, महाराष्ट्र से लगे जिलों में जो हमने बसें बंद की थीं, उस अवधि को हम 30 अप्रैल तक बढ़ा रहे हैं। वहीं स्कूल अभी नहीं खोले जायेंगे, स्थिति की हम समीक्षा करेंगे। जिन क्षेत्रों में ज्यादा संक्रमण है, वहां की क्या नीति बनाना चाहिए, उसके बारे में भी चर्चा होगी। सभी जिलों में उपचार की समस्त सुविधाएं मिलें, इस पर भी मंथन होगा। कोरोना संक्रमण के जहां ज्यादा मामले हैं, वहां 1 अप्रैल से 45 साल से ज्यादा उम्र के सभी भाई-बहन टीकाकरण के लिए पात्र हो जाएंगे।

प्रदेश की जनता से की ये अपील

इस संबंध में, प्रदेश की जनता से अपील करते हुए सीएम शिवराज ने कहा कि, होली और बाकी त्योहार हम सबने परंपरा का निर्वाह करते हुए घर में ही मनाये हैं। रंगपंचमी जैसे त्योहारों पर भी कोई जुलूस और चलसमारोह नहीं होगा, क्योंकि यह बहुत घातक हो जायेगा। मैं आप सभी से पुन: अपील करता हूं कि मास्क जरूर लगाएं। कोरोना संक्रमण को परास्त हम तभी कर पायेंगे, जब शरीर में प्रतिरोधक क्षमता रहेगी, इसके लिए वैक्सीनेशन जरूरी है। अत: मैं आप सभी से अपील करता हूं कि स्वयं वैक्सीनेशन करवायें और दूसरों को भी प्रेरित करें। साथ ही कहा कि, मैं दांडी यात्रा में सम्मिलित होऊंगा। नर्मदा मैया, जहां समुद्र में मिली हैं, वह स्थान और दांडी यात्रा का स्थान पास-पास है, वहां पहुंचकर नर्मदा मैया की पूजा-अर्चना भी करूंगा।