मध्यप्रदेश उपचुनाव: दमोह सीट पर बीजेपी-कांग्रेस के बीच कांटे की टक्कर, रूझान में कांग्रेस आगे - Jai Bharat Express

Breaking

मध्यप्रदेश उपचुनाव: दमोह सीट पर बीजेपी-कांग्रेस के बीच कांटे की टक्कर, रूझान में कांग्रेस आगे



17 अप्रैल को हुए मतदान के बाद से ही बीजेपी-कांग्रेस की धड़कने बढी हुई हैं मतगणना जारी है और बीजेपी और कांग्रेस प्रत्याशी की प्रतिष्ठा दांव पर लगी है, दोनों ही नेता अपनी-अपनी जीत का दावा कर रहे हैं दमोह विधानसभा उपचुनाव में सुबह 8 बजे से पालिटेक्निक कालेज परिसर में डाक मतपत्रों की गणना के साथ मतगणना की प्रक्रिया जारी है। अभी तक तीसरे राउंड की मतगणना हो चुकी है, जिसमें कांग्रेस प्रत्याशी अजय टंडन 1815 मतों से आगे चल रहे हैं। कोरोना वैक्सीन के दोनों डोज लगवा चुके कर्मचारी ही मतगणना कर रहे हैं, इसके पहले इनका कोविड टैस्ट भी करवाया गया है। यहां 22 उम्मीदवार मैदान में हैं, जिनमें मुख्य मुकाबला भाजपा प्रत्याशी राहुल सिंह लोधी और कांग्रेस प्रत्याशी अजय टंडन के बीच है। 17 अप्रैल को उपचुनाव में दमोह सीट पर कुल 59.81 फीसद मतदान हुआ था, जबकि इसके पहले 2018 में हुए विधानसभा चुनाव में ये 74.45 फीसद था। पहले इस सीट पर राहुल सिंह लोधी कांग्रेस की ओर से विधायक थे, बाद में उन्होंने अपने पद से इस्तीफा दे दिया और भाजपा का दामन थाम लिया। दमोह सीट पर उपचुनाव की घोषणा के बाद भाजपा ने राहुल सिंह लोधी को ही यहां से अपना प्रत्याशी बनाया। अब आज मतगणना से तय होगा कि जनता उनके इस निर्णय का साथ दिया है या नहीं।

पहला राउंड

अजय टंडन, कांग्रेस - 2823 वोट मिले

राहुल सिंह लोधी, भाजपा - 2123 वोट मिले

कांग्रेस के अजय टंडन 700 वोट से आगे

दूसरा राउंड

अजय टंडन, कांग्रेस - 5977 वोट मिले

राहुल सिंह लोधी, भाजपा - 3397 वोट मिले

कांग्रेस के अजय टंडन 1480 वोट से आगे

तीसरा राउंड

अजय टंडन, कांग्रेस - 8613 वोट मिले

राहुल सिंह लोधी, भाजपा - 6798 वोट मिले

कांग्रेस के अजय टंडन 1815 वोट से आगे

क्यों हुए चुनाव

बहरहाल 2021 में हो रहे उपचुनाव में सबसे बड़ा मुद्दा टिकाऊ और बिकाऊ का है क्योंकि, राहुल सिंह इसके पहले कांग्रेस से चुनाव लड़कर जीत चुके थे, लेकिन, कमलनाथ सरकार में किए गए मेडिकल कॉलेज के वादे को पूरा न करने पर उन्होंने पार्टी की प्राथमिक सदस्यता और विधायक पद से इस्तीफा दे दिया और भाजपा का दामन थाम लिया। जिसके बाद विस उपचुनाव कराना पड़ा।