ये है पेट की चर्बी घटाने वाला सबसे असरदार योगासन, जानें फायदे और करने का तरीका - Jai Bharat Express

Breaking

ये है पेट की चर्बी घटाने वाला सबसे असरदार योगासन, जानें फायदे और करने का तरीका

मंडूकासन के फायदे देखें वीडियो 


मोटे होने पर शरीर में पेट पर सबसे पहले चर्बी चढ़ती है. ऐसे में पेट को पतला करना काफी मुश्किल काम है. हां नियमित रूप से योग और एक्सरसाइज करने से आपके पेट का फैट कम हो सकता है. मंडूकासन ऐसा योगासन है जिससे तेजी से पेट कम होता है. जानते हैं इसे करने का तरीका.

International Yoga Day 2021: आजकल पेट की समस्याओं से लोग सबसे ज्यादा परेशान रहते हैं. सिटिंग जॉब्स की वजह से ज्यादातर लोगों की तोंद निकल आती है. ऐसे में आपको पेट की चर्बी कम करने के लिए हम सबसे असरदार योग आसन बता रहे हैं. इसे करने से आपका पेट बहुत जल्दी कम हो जाएगा. खास बात ये हैं कि इससे पेट से जुड़ी समस्याएं जैसे गैस और कब्ज पूरी तरह से दूर हो जाएगी. अगर आप इस योग को करते हैं तो आपका शुगर लेवल भी इससे कंट्रोल रहेगा. इस योग आसन का नाम है मंडूकासन, जिसे मेंढक आसन (Frog Pose) भी कहते हैं. आइये जानते हैं इसके फायदे और करने का तरीका.


मंडूकासन के फायदे


तोंद कम- अगर आपको पेट की चर्बी कम करनी है तो इसके लिए नियमित रुप से मंडूकासन करना चाहिए. इससे पेट पर दबाब पड़ता है और पेट की चर्बी गलने लगती है.


पेट के रोग दूर- अगर आपको पेट से जुड़ी समस्याएं रहती हैं तो आपके लिए ये अच्छा योगाभयास है. आप इसे नियमित रुप से करें आपको आराम मिलेगा.


डायबिटीज कम- इस योग से पैंक्रियास से इन्सुलिन का स्राव में मदद मिलती है इसे करने से डायबिटीज यानि मधुमेह को काफी हद तक कंट्रोल किया जा सकता है.


कब्ज में आराम- जिन लोगों को कब्ज की समस्या रहती है उन्हें मंडूकासन जरूर करना चाहिए. इससे शरीर में एंजाइम और हॉर्मोन का स्राव अच्छी तरह होता है और खाना पचाने में मदद मिलती है.


गैस में राहत- इस आसन को करने से पेट से टॉक्सिन्स और जहरीली गैस बाहर निकल जाती हैं. इस योग आसन से आप अपने पेट से जहरीले गैस को आसानी से रिलीज कर सकते हैं.


मंडूकासन करने का तरीका


सबसे पहले किसा समतल जगह पर वज्रासन में बैठ जाएं.

अब मुठ्ठी बांधकर आपनी नाभि के पास लेकर आएं.

मुट्ठी को नाभि और जांघ के पास खड़ी करके रखें जिसमें उंगलियां आपके पेट की ओर हो.

गहरी सांस लें फिर छोड़ते हुए आगे झुकें, कोशिश करें कि छाती आपकी जांघों पर टिक जाए.

ऐसे झुकें कि नाभि पर ज़्यादा से ज़्यादा दबाब आए.

अपना सिर और गर्दन सीधी रखें.

कोशिश करें धीरे-धीरे सांस लें और छोड़े.

अब आराम से अपनी सामान्य स्थिति में वापस आ जाएं.

यह एक चक्र है आप शुरु में इसे 3-5 बार कर सकते हैं.