होटल VEGA सील आयुष्मान कार्ड धारियों को फर्जी मरीज बनाकर भर्ती करने के मामले में हुई कार्रवाई, - Jai Bharat Express

Breaking

होटल VEGA सील आयुष्मान कार्ड धारियों को फर्जी मरीज बनाकर भर्ती करने के मामले में हुई कार्रवाई,

आज सेंट्रल इंडिया किडनी हॉस्पिटल से लगे होटल वेगा को सील कर दिया गया।





सेंट्रल इंडिया किडनी हॉस्पिटल प्रबंधन द्वारा होटल वेगा में आयुष्मान कार्ड धारियों को फर्जी मरीज बनाकर भर्ती किया जाता था तथा उनके इलाज के नाम पर शासन से राशि प्राप्त की जाती थी।





जबलपुर| फर्जी मरीजों को भर्ती कर आयुष्मान योजना का अनुचित लाभ उठाने के मामले में जिला प्रशासन द्वारा आज सेंट्रल इंडिया किडनी हॉस्पिटल से लगे होटल वेगा को सील कर दिया गया । सेंट्रल इंडिया किडनी हॉस्पिटल प्रबंधन द्वारा होटल वेगा में आयुष्मान कार्ड धारियों को फर्जी मरीज बनाकर भर्ती किया जाता था तथा उनके इलाज के नाम पर शासन से राशि प्राप्त की जाती थी ।अंधी कमाई करने के लिए प्राइवेट अस्पताल किस हद तक फर्जीवाड़ा करते हैं, किडनी हॉस्पिटल के संचालक द्वारा अपने होटल में आयुष्मान कार्ड के मरीजों को फ़र्जी तरिके से भर्ती करके उनका इलाज किया जा रहा था,इसका खुलासा स्वास्थ्य विभाग और पुलिस की संयुक्त छापेमारी में हुआ था, सीएमएचओ डॉ. संजय मिश्रा की जांच पड़ताल में  इस मामले में कई गड़बड़ियां  सामने आई थी, उन्होंने कहा था, कि इस मामले में नर्सिंग होम एक्ट का भी उल्लंघन किया गया है स्वास्थ्य विभाग द्वारा आयुष्मान योजना के नोडल अधिकारी और पुलिस टीम के साथ की गई छापेमारी में इस होटल में 30 से 40 मरीज भर्ती मिले थे।


होटल में कर रहे थे मरीजों का इलाज


आयुष्मान कार्ड योजना में फर्जीवाड़े की खबर पुलिस कंट्रोल रूम को मिली थी. जिस पर स्वास्थ्य विभाग और आयुष्मान कार्ड योजना के अधिकारियों ने पुलिस के साथ मिलकर राइट टाउन स्थित डॉ. अश्विनी पाठक के सेंटर इंडिया किडनी हॉस्पिटल में छापेमारी की थी, कार्रवाई करने पहुंची स्वास्थ्य महकमे की टीम की आंखें उस समय फटी की फटी रह गईं थी, जब अस्पताल में भर्ती किए गए मरीजों का इलाज अस्पताल के बाजू में स्थित वेगा होटल में किया जा रहा था।


यह भी पढ़े 👉 न्यायालय में बदल दो अपने बयान, अब्दुल रज्जाक की जमानत करवानी है।नहीं तो जान से मार देगें