केंद्रीय मंत्री ने राहुल गांधी को कहा- कुंदबुद्धि पप्पू, देश को बदनाम कर रहे - Jai Bharat Express

Breaking

केंद्रीय मंत्री ने राहुल गांधी को कहा- कुंदबुद्धि पप्पू, देश को बदनाम कर रहे

 


नई दिल्ली। भारत और चीन के बीच लद्दाख स्थित एलएसी पर तनाव कम होने की संभावना है। दरअसल, दोनों देशों ने तनाव वाले पैंगोंग सो से सेना को पीछे हटाने के फैसले पर सहमति जताई है। हालांकि, कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने चीन के साथ समझौते पर सवाल उठाते हुए केंद्र सरकार पर निशाना साधा है।

शुक्रवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में राहुल ने कहा कि पीएम मोदी डरपोक हैं और वह चीन के सामने खड़े नहीं हो सके। मोदी सरकार ने चीन के सामने मत्था टेक दिया है। वह जवानों के बलिदान पर थूक रहे हैं। हालांकि, भाजपा नेताओं ने इस बयान के लिए राहुल गांधी की कड़ी आलोचना की। केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने तो उन्हें कुंदबुद्धि तक करार दे दिया। क्या कहा भाजपा नेताओं ने?: राहुल गांधी की प्रेस कॉन्फ्रेंस के बाद मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा, कुंदबुद्धि पप्पू जी के कमाल का कोई रास्ता नहीं है।

कहीं और से सुपारी लेकर देश को बदनाम करने के षड्यंत्र और सुरक्षा बलों के मनोबल को तोड़ने की साजिशों में लगे हैं तो उसका कोई इलाज नहीं है। वहीं, गृह राज्य मंत्री जी किशन रेड्डी ने जवाहर लाल नेहरु की ओर से चीन को सरेंडर की गई जमीन का मुद्दा उठाते हुए कहा, उन्हें अपने दादा से पूछना चाहिए कि किसने भारत का क्षेत्र चीन को दे दिया था। उन्हें जवाब मिल जाएगा। कौन देशभक्त है और कौन नहीं, जनता सब जानती है। भाजपा नेता एमजे अकबर ने 1962 के द इंडियन एक्सप्रेस की कॉपी शेयर कर लिखा, राहुल गांधी किस पीएम की बात कर रहे हैं? इतिहास को कुछ लोगों को विनम्रता सिखानी चाहिए थी।

देश की सीमाओं की सुरक्षा करने वाले और लोगों को सशक्त रखने वाले आधुनिक भारत के सच्चे नेता के खिलाफ नाउम्मीदें वाली अफवाहें फैलाना नहीं। क्या था राहुल गांधी का पूरा बयान: राहुल गांधी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री मोदी क्यों चीन के मुद्दे से भाग रहे हैं। उन्होंने खुद सामने आकर बयान क्यों नहीं दिया? उन्होंने कहा कि डेपसांग एरिया पर बात क्यों नहीं की गई। वे सेना के बलिदान को धोखा दे रहे हैं। भारत में किसी को भी ऐसा करने की इजाजत नहीं दी जानी चाहिए प्रधानमंत्री इस पर क्यों नहीं बोल रहे हैं। राहुल ने आगे कहा, मोदी ने भारतीय क्षेत्र को चीन को क्यों दिया? इसका जवाब उन्हें और रक्षा मंत्री को देना चाहिए। क्यों सेना को कैलाश रेंज से पीछे हटने को कहा गया? देपसांग प्लेन्स से चीन वापस क्यों नहीं गया? हमारी जमीन फिंगर-4 तक है। मोदी ने फिंगर-3 से फिंगर-4 की जमीन चीन को पकड़ा दी है।