Assam Election 2021: ‘बदरुदीन से गठबंधन बनेगा कांग्रेस की हार का कारण’, बोले अमित शाह - Jai Bharat Express

Breaking

Assam Election 2021: ‘बदरुदीन से गठबंधन बनेगा कांग्रेस की हार का कारण’, बोले अमित शाह

 


Assam Election 2021: विधानसभा चुनाव के लिए प्रचार के दौरान गृह मंत्री अमित शाह ने आज यानी सोमवार को असम में रैली की. अपनी रैली में कांग्रेस, बदरुद्दीन अजमल पर जमकर हमला बोलने के बाद अमित शाह ने टीवी9 से खास बातचीत भी की. इसमें अमित शाह ने दावा किया कि असम में फिर से बीजेपी की सरकार बनेगी. उन्होंने यह भी कहा कि कांग्रेस ने बदरुद्दीन अजमल के साथ गठबंधन किया है, जो उनकी हार का सबसे बड़ा कारण बनने वाला है.

असम में 27 मार्च से 6 अप्रैल के बीच तीन चरणों में विधानसभा चुनाव होना है. फिर 2 मई को बाकी 4 राज्यों के साथ चुनाव के नतीजे आएंगे. फिलहाल राज्य में बीजेपी गठबंधन की सरकार है.

1. क्या असम में फिर बनेगी डबल इंजन की सरकार?

अमित शाह – डबल इंजन की सरकार निश्चित तौर पर दोबारा असम में बनने जा रही है. एक जमाने में यहां आतंकवाद, गोलीबारी, कर्फ्यू और लोग मरते थे. घुसपैठ होता था इन सारी चीजों पर आज नकेल कस दी है. आज लगभग आतंकवाद नेस्तनाबूत हो गया है. 2000 आतंकियों ने सरेंडर किया. बोडोलैंड का समझौता हो गया है, डिफू से भी समझौता लगभग हो गया है.

5 साल में असम के विकास बहुत हुआ. इसी बजट में ही असम को 56 हजार करोड़ देने का काम किया है. 20 हजार किलोमीटर सड़क पर जाल बुन दिया. ब्रह्मपुत्र नदी पर 6 ब्रिज बनाए हैं, असम की विद्युत क्षमता को 4 गुना बढ़ाया है. हर घर में शौचालय, गैस सिलेंडर और बिजली पहुंचाई है. अगले 5 साल के लिए एक वृहद योजना पूरे नॉर्थ ईस्ट के लिए बनाई है. विशेषकर असम को ध्यान में रखकर काम किया गया है, इससे राज्य को बाढ़ मुक्त बनाया जाएगा.

शाह ने आगे कहा, ‘मैं यहां से मुख्यमंत्री के क्षेत्र माजुली जा रहा हूं, वो एक द्वीप जैसा है, जब बाढ़ आती है तो घर के घर, गांव के गांव डूब जाते हैं. सेटेलाइट इमेज के जरिए वहां बाढ़ के पानी का सही उपयोग करने की बड़ी योजना बनाई जाएगी जिससे पर्यटन भी बढ़ेगा और पूरा असम बाढ़ मुक्त बनेगा.

2. कांग्रेस-बदरुदीन अजमल के गठबंधन पर आपका क्या सोचना है?

अमित शाह – कांग्रेस के हार का सबसे बड़ा कारण कोई बनने वाला है तो वो है बदरुदीन. मुझे आप एक बात बताओ कि बदरुदीन को गोद में बिठाकर कोई घुसपैठ रोक सकता है भला? आप आतंकवाद रोक सकते हो क्या. यहीं कांग्रेस पार्टी है जिसके लिए यहां कांग्रेसी मुख्यमंत्री ने कहा था कि “हू इज बदरुदीन” और ये आज गोदी में बैठे हुए हैं.

ये अजीब प्रकार की सेकुलर पार्टी है यहां बदरुदीन के साथ बैठती है, उधर बंगाल में फुरफुरा शरीफ के साथ गठबंधन करती है और केरल में मुस्लिम लीग के साथ गठबंधन करती है. ये किस प्रकार का सेक्युलिज्म है. मोदी नेतृत्व में हमने ये तय किया हुआ है कि हम घुसपैठ पर कोई समझौता नहीं करेंगे. काफी हद किया है और आगे और कड़ाई से लागू करेंगे.

3. राहुल गांधी सीएए के खिलाफ हैं, प्रियंका गांधी चाय बागान मजदूरों का भत्ता बढ़ाने की बात करती हैं. इसपर क्या कहेंगे.

अमित शाह – राहुल गांधी दो तरह की बात करते हैं. वो दिल्ली में कहते हैं कि एनआरसी नहीं चाहिए. हिम्मत है तो जरा असम में यही बात बोलकर दिखाएं. इसपर क्यों राहुल गांधी चुप हो जाते हैं. प्रियंका गांधी जी यहां पर्यटन करने आती हैं. हमने चाय बागान वालों के लिए 5 साल काम किया है. सर्वानंद सरकार ने 12 हजार सगर्भा महिलाओं के लिए देने का काम किया है. 7.5 लाख बैंक अकाउंट खोलकर उनकी तनख्वाह सीधे अकाउंट में डालने का काम जारी है. मजदूरी को ढाई गुना करने का काम बीजेपी सरकार ने किया. मोदी ने अभी ही 1000 करोड़ रुपये एलोकेट किया हैं, जिससे इनके लिए मकान, स्कूल, अस्पताल खोला जाएगा. चाय बागान श्रमिकों को मालूम है कि कौन उनका हितैषी है और कौन सिर्फ वोट के लिए वादे कर रहा है. हमें जरा भी चिंता नहीं है. चाय बागान बीजेपी का गढ़ है और आगे भी रहने वाला है.

4. क्या एनडीए 100 प्लस का नारा पूरा हो रहा है?

अमित शाह – हां, हम निश्चित तौर पर हम अपनी टैली की गत विधानसभा चुनाव से ज्यादा आगे बढ़ाएंगे और फिर से एक बार भारतीय जनता पार्टी की सरकार होगी.