अस्पताल ने बनाया एक ही दिन का नब्बे हजार का अनाप-शनाप बिल परिजनों के उड़ गए होश पढ़िए यह खबर - Jai Bharat Express

Breaking

अस्पताल ने बनाया एक ही दिन का नब्बे हजार का अनाप-शनाप बिल परिजनों के उड़ गए होश पढ़िए यह खबर


नरसिंहपुर जिले के गाड़रवारा से उपचार के लिये यहाँ माढ़ोताल स्थित संस्कारधानी हॉस्पिटल में भर्ती कराये गये एक मरीज के परिजनों को 90 हजार का बिल थमा दिया गया।


अस्पताल ने थमाया 90 हजार का बिल केयर बाय कलेक्टर ने कम कराये 60 हजार रूपये मरीज को करवाया मेडिकल रेफर।


 केयर बाय कलेक्टर व्हाट्स अप नम्बर 75879 70500

जबलपुर |आम नागरिकों की समस्या के त्वरित निराकरण के उद्देश्य से कलेक्टर कर्मवीर शर्मा द्वारा नवाचार के रूप में शुरू किया गया केयर बाय कलेक्टर व्हाट्सएप नंबर सिर्फ जबलपुर ही नहीं आसपास के जिलों के निवासियों के लिये भी मददगार साबित हो रहा है । 

ऐसे ही एक मामले में नरसिंहपुर जिले के गाड़रवारा से उपचार के लिये यहाँ माढ़ोताल स्थित संस्कारधानी हॉस्पिटल में भर्ती कराये गये एक मरीज के परिजनों को 90 हजार के बिल में से 60 हजार रुपये की राशि कम कराकर बड़ी राहत दिलाई गई, पयोजेनिक मेनिनजाइटिस नाम की बीमारी से ग्रसित गाडरवारा के 20 वर्षीय ललित सराठे को उनके परिजनों द्वारा इस निजी अस्पताल में उपचार के लिये कल शनिवार की शाम भर्ती कराया गया था।अस्पताल पहुँचते ही मरीज को वेंटिलेटर पर रखा गया।


लेकिन हालत बिगड़ने पर अस्पताल प्रबंधन द्वारा 90 हजार रुपये का बिल थमा कर परिजनों से अपने मरीज को मेडिकल अस्पताल ले जाने को कहा गया। सिर्फ एक दिन के इलाज का इतनी बड़ी राशि का बिल देखकर परिजनों के होश उड़ गये। परिवार जनों ने अपनी आर्थिक स्थिति का हवाला देते हुए अस्पताल प्रबंधन से काफी मिन्नत की किंतु प्रबन्धन बिल कम करने को राजी नहीं हुआ।

इसी मौके पर किसी ने मरीज के परिजनों को केयर बाय कलेक्टर व्हाट्स अप नम्बर के संबंध में जानकारी दी। मरीज की बहन ने केयर बाय कलेक्टर व्हाट्स अप नम्बर 75879 70500 पर मैसेज कर कलेक्टर कर्मवीर शर्मा से मदद करने का आग्रह किया। सन्देश देखते ही कलेक्टर श्री शर्मा ने सीएमएचओ डॉ. रत्नेश कुररिया को इस मामले का तुरन्त निराकरण करने और मरीज के परिजनों की मदद करने के निर्देश दिये, कलेक्टर से मिले निर्देश पर सीएमएचओ ने स्वास्थ्य विभाग की ओर से निजी अस्पतालों पर निगरानी रखने नियुक्त नोडल अधिकारी डॉ. प्रियंक दुबे को संस्कारधानी हॉस्पिटल भेजा,डॉ दुबे तत्काल अस्पताल पहुँचे और पहले मरीज के परिजनों से मिले। बाद में उन्होंने उपचार से सबंधित अस्पताल के सभी दस्तावेजों का परीक्षण किया तथा अनाप शनाप बिलिंग करने के लिये हॉस्पिटल प्रबंधन से अप्रसन्नता व्यक्त कर कार्यवाही की चेतावनी दी। जिसका गहरा असर हुआ और अस्पताल प्रबंधन को  90 हजार रुपये के बिल में से 60 हजार रुपये की बड़ी राशि कम करनी पड़ी, मरीज के परिजनों को मात्र 30 हजार रुपये ही अस्पताल को देने पड़े जिसमें से 10 हजार रुपये हॉस्पिटल का खर्च एवं 20 हजार रुपये की दवाइयों के शामिल थे। पेशेंट को शाम तक मेडिकल अस्पताल शिफ्ट करा दिया गया ,मरीज की बहन ने केयर बाय कलेक्टर व्हॉट्स अप नम्बर पर भेजे सन्देश पर तत्परता से की गई कार्यवाही के लिये कलेक्टर श्री शर्मा का आभार व्यक्त किया है।